Sant Ravidas Janaynti 2022 संत रविदास जी का जन्म चमार जाति में हुआ 

Sant Ravidas Janaynti 2023 [Hindi]: संत रविदास जी का जन्म चमार जाति में हुआ? 

Sant Ravidas Janaynti 2023: धरती पर प्रत्येक युग में ऋषि मुनियों, संतों, महंतों, कवियों और महापुरुषों का आवागमन होता रहा है। लोगों में भक्तिभाव जीवित रखने के लिए महापुरुषों का विशेष योगदान रहा है। इन महापुरुषों ने समाज सुधारक का कार्य करते हुए संसार के लोगों में भक्तिभाव बढ़ाने, श्रद्धा और विश्वास जगाने का काम…

Read More
दिव्य धर्म यज्ञ दिवस 2022 [Hindi] Divine Bhandara By Sant Rampal Ji

509वां दिव्य धर्म यज्ञ दिवस 2022 [Hindi] | Divine Bhandara By Sant Rampal Ji

संत रामपाल जी महाराज जी के सान्निध्य में मनाया जा रहा है 509वां “दिव्य धर्म यज्ञ दिवस” जिसके उपलक्ष्य में समागम की तैयारियां पूरे जोरशोर से चल रही हैं। संपूर्ण विश्व को इस धर्म यज्ञ में सम्मिलित होने का न्यौता दिया गया है। आइए जानते हैं दिव्य धर्म यज्ञ दिवस की पूरी तैयारियों के बारे…

Read More
Bhai-Dooj-2021-Hindi-भाई-दूज-पर-जानिए-कौन-है-हमारा-असली-रक्षक

Bhai Dooj 2022: भाई दूज पर जानिए कैसे हो सकती है भाई की रक्षा?

Bhai Dooj 2021: भारत के लोग इन त्योहारों और मेलों को बहुत उत्साह से मनाते हैं उन्हीं में से एक है भाई दूज का पर्व। भाईदूज या भ्रातृ द्वितीया का पर्व कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है। भाई दूज का त्योहार रक्षाबंधन की तरह ही मनाया जाता है बस फर्क इतना है कि इसमें भाई की कलाई पर राखी नहीं बांधी जाती बल्कि माथे पर तिलक लगाया जाता है। भाई दूज (Bhai Dooj 2021) का त्योहार गोवर्धन पूजा के अगले दिन मनाया जाता है। इस साल भाई दूज का त्योहार 6 नवंबर दिन शनिवार को मनाया जाएगा। आइए जानते हैं कि यहां कोई त्योहार क्यों नहीं मनाना चाहिए?

Read More
Happy Diwali 2021 [Hindi] Lord Shri Rama Story कैसे करें भगवान को खुश

Happy Diwali 2022 [Hindi]: जानिए दिवाली की कैसे करें भगवान को खुश?

Happy Diwali 2022: दीपावली या दीवाली प्रत्येक वर्ष कार्तिक की अमावस्या को मनाए जाने वाला भारतवर्ष का वृहद त्योहार है जो इस वर्ष चार नवंबर को है। लेकिन रावण वध के बाद राम जी के आगमन के बाद अयोध्यावासी दो वर्ष के बाद ही दीपावली के त्योहार को मनाना त्याग चुके थे। लोग पटाखों से…

Read More
Happy Karva Chauth [Hindi] Date & Story ऐसे बढ़ेगी पति की आयु

Happy Karva Chauth 2022 [Hindi]: क्या करवा चौथ व्रत से पति की आयु बढ़ती है?

करवा चौथ 2022 (Happy Karva Chauth in Hindi): करवा चौथ भारत में अब बहुतायत में विवाहिताओं द्वारा किया जाने वाला व्रत बन चुका है। करवाचौथ में लोकवेद के अनुसार यानी सुनी सुनाई पद्धति पर रखे जा रहे इस व्रत में सजना सँवरना और दिन भर व्रत रहकर कुछ निर्धारित परंपरा के साथ व्रत खोला जाता…

Read More
Happy Onam Festival in Hindi, essay, story, qoutes

Happy Onam Festival 2022 [Hindi]: क्यों मनाया जाता है ओणम क्या है इसकी कहानी?

Happy Onam Festival 2021 in Hindi: ओणम केरल का एक प्राचीन और महत्वपूर्ण उत्सव हैं, इसकी शुरूआत राजा महाबली के स्वर्ण काल के दौरान हुई. Onam Hindi Essay

Read More
happy-Krishna-Janmashtami-in-Hindi-जन्माष्टमी-पर-जानें-कृष्ण-जी-से-जुड़े-अद्भुत-रहस्य

Happy Krishna Janmashtami 2022: कृष्ण जन्माष्टमी पर जानें श्री कृष्ण एवं गीता के अद्भुत रहस्य!

आज हम आपको Happy Krishna Janmashtami in Hindi (कृष्ण जन्माष्टमी) के बारे में विस्तार बताएँगे। लोकनायक के रूप में प्रतिष्ठित श्री कृष्ण जिनका बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक खासी लोकप्रियता है उनके विषय मे आज वे जानकारियां लेकर आये हैं जो अब तक न आपने सुनी और न पढ़ी होंगी। जानें अद्भुत 16 कलाओं के स्वामी श्री कृष्ण की लीलाओं का विषय में अद्भुत जानकारियां।

Read More
यह है धनवान बनने के का सही तरीका भक्ति के धनवान बनिए

यह है धनवान बनने का सही तरीका | भक्ति के धनवान बनिए

नमस्कार दर्शकों! खबरों की खबर का सच कार्यक्रम में आप सभी का एक बार फिर से स्वागत है। आज के कार्यक्रम में हम देश दुनिया में लोगों द्वारा धनी बनने की कुछ ऐसी क्रियाओं पर नजर डालेंगे जिससे अंधविश्वास और अंधभक्ति को बढ़ावा मिलता है और साथ हीजानेंगे अखंड धनवान बनने का रहस्य। दोस्तों! जीवन…

Read More
रामायण का अनसुना सच राक्षसनगरी लंका में विभीषण और मंदोदरी का स्वभाव (1)

रामायण का अनसुना सच | राक्षसनगरी लंका में विभीषण और मंदोदरी का स्वभाव भक्त जैसा क्यों था

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी अद्भुत कहानी बताने वाले हैं जो आपने सुनी तो हजारों बाहर होगी लेकिन उसका रहस्य पता नहीं होगा तो आज हम उस रहस्य का उजागर करते हुए.. यह कहानी शुरू करते हैं ….कहानी है लंका की वर्तमान श्रीलंका की, लंका को राक्षसों की नगरी कहा जाता था लेकिन…

Read More