James Webb Space Telescope [Hindi] | NASA के जेम्‍स वेब स्पेस टेलिस्कोप ने खींची अरबों साल पहले के ब्रह्मांड की रंगीन तस्वीरें

James Webb Space Telescope First Photo [Hindi] ब्रह्मांड के खुलेंगे रहस्य

James Webb Space Telescope First Image: नासा के जेम्‍स वेब अंतरिक्ष टेलिस्‍कोप की पहली तस्‍वीर दुनिया के सामने आ गई है। अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने अनंत अंतरिक्ष के एक छोटे से हिस्‍से की इस रंगीन तस्‍वीर को जारी किया है। यह तस्‍वीर आकाशगंगा क्‍लस्‍टर SMACS 0723 की है। इससे अंतरिक्ष के कई राज खुलने की उम्‍मीद है।

अमेरिका बड़ी चीजें कर सकता है, कुछ भी क्षमता के बाहर नहीं: बाइडन

अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन ने कहा क‍ि जेम्‍स वेब टेलिस्‍कोप की पहली तस्‍वीर विज्ञान और तकनीक, खगोलविज्ञान, अंतरिक्ष की खोज, अमेरिका और पूरी मानवता के लिए एक ऐतिहास‍िक क्षण है। बाइडन ने कहा कि ये तस्‍वीरें दुनिया को यह याद दिलाती हैं कि अमेरिका बड़ी चीजें कर सकता है और अमेरिकी जनता खासकर बच्‍चों को यह बताती हैं कि कुछ भी हमारी क्षमता के बाहर नहीं है। हम उन संभावनाओं को देख सकते हैं जिसे अब तक कभी नहीं देखा गया था। हम उन जगहों पर जा सकते हैं, जहां पहले कभी नहीं जाया जा सका था।

जेम्‍स वेब टेलिस्कोप में लगा हुआ है एक गोल्डेन मिरर, जानें क्‍यों खास

इस तस्‍वीर को विभिन्‍न तस्‍वीरों को मिलाकर बनाया गया है जिसमें कई सप्‍ताह का समय लगा। इस तस्‍वीर को नासा के हब्‍बल टेलिस्‍कोप से अब तक खींचा नहीं जा सका था। जेम्‍स वेब प्रॉजेक्‍ट के वरिष्‍ठ वैज्ञानिक जॉन माथेर ने इस टेलिस्‍कोप को आकाश में गोल्‍डेन आई करार दिया। यह तस्‍वीर जेम्‍स वेब से खींची गई कई रंगीन तस्‍वीरों में से एक है। नासा अभी जेम्‍स वेब की कई और तस्‍वीरों को जारी करेगी। नासा ने इस टेलिस्‍कोप को 10 हजार वैज्ञानिकों की फौज से मिलकर बनाया है।

Also Read | World Population Day [Hindi]: विश्व जनसंख्या दिवस 2022 की Theme क्या है?

नासा के नए टेलिस्कोप में एक गोल्डेन मिरर लगा हुआ है। इसकी चौड़ाई करीब 21.32 फीट है। यह मिरर बेरिलियम से बने 18 षटकोण टुकड़ों को जोड़कर बनाया गया है। हर टुकड़े पर 48.2 ग्राम सोने की परत चढ़ी हुई है। इसे बनाने में 10 अरब डॉलर खर्च हुए हैं।

James Webb Space Telescope | ब्रह्मांड का अब तक का सबसे गहरा दृश्य

जो बाइडन ने एक ट्वीट में कहा कि वेब स्पेस टेलीस्कोप से पहली तस्वीर विज्ञान और प्रौद्योगिकी के लिए एक ऐतिहासिक क्षण है। यह खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष के साथ अमेरिका और पूरी मानवता के लिए अच्छा दिन है। राष्ट्रपति बाइडन ने वेब की पहली छवि में से एक को जारी किया है और कहा कि यह ब्रह्मांड का अब तक का सबसे गहरा दृश्य है।

वेब टेलीस्कोप शक्तिशाली दूरबीनों में से एक

वेब टेलीस्कोप अंतरिक्ष में प्रक्षेपित सबसे शक्तिशाली दूरबीनों में से एक है। नासा के उप प्रशासक पाम मेलरॉय के एक बयान के अनुसार, इस मिशन में 20 वर्षों तक संचालित करने के लिए पर्याप्त अतिरिक्त ईंधन क्षमता है।

Also Read | Stephen Hawking Google Doodle: गूगल ने डूडल बनाकर दिग्गज वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग को किया याद

नासा में वेब के डिप्टी सीनियर प्रोजेक्ट साइंटिस्ट जोनाथन गार्डनर ने कहा यह वेब इतनी दूर आकाशगंगाओं की तलाश में बिग बैंग के बाद समय में पीछे की ओर देख सकता है, प्रकाश को उन आकाशगंगाओं से खुद तक पहुंचने में कई अरब साल लग गए हैं।

पहले कभी नहीं खींची गई ब्रह्मांड की ऐसी तस्वीर

James Webb Space Telescope | जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप के जरिये ब्रह्मांड की जो तस्वीर कैद की गई है, उसमें पहली बार ब्रह्मांड को इतनी गहराई में साफ देखा जा सकता है. ब्रह्मांड की ऐसी तस्वीर पहले कभी नहीं खींची गई है. वहीं नासा के एडमिनिस्ट्रेटर बिल नेलसन ने कहा है कि इससे पहले सुदूर ब्रह्मांड की तस्वीर कभी नहीं खींची गई है. उन्होंने यह भी जानकारी दी है कि ऐसी ही कुछ और रंगीन तस्वीरों को 12 जुलाई यानि मंगलवार को भी जारी किया जाएगा. उनके मुताबिक ये तस्वीरें हाई रिजॉल्यूशन की हैं.

James Webb Space Telescope | 2021 में किया गया था लॉन्च

बता दें कि अंतरिक्ष क्षेत्र में दुनिया के सबसे बड़े टेलीस्कोप जेम्स वेब टेलीस्कोप को अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा ने 25 दिसंबर, 2021 को लॉन्च किया था. इसे अंतरिक्ष की गहराई के रहस्यों को सामने लाने के लिए लॉन्च किया गया था. वहीं नासा में वेब के डिप्टी सीनियर प्रोजेक्ट साइंटिस्ट जोनाथन गार्डनर ने कहा है कि जेम्स वेब स्पेस टेलीस्कोप बिग बैंग के तुरंत बाद के समय को भी देख सकता है. ऐसा वह सुदूर ब्रह्मांड में मौजूद आकाशगंगाओं को देखकर कर सकता है.

टेलिस्कोप को तैयार करने में खर्च हुए 900 करोड़ डॉलर

अतंरिक्ष में भेजी गई सबसे बड़ी और सबसे जटिल ऑब्जरवेट्री है जेम्स वेब टेलीस्कोप। इस नए टेलीस्कोप में बनाने में लगभग 900 करोड़ डॉलर खर्च हुए थे। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने दक्षिण अमेरिका के उत्तरपूर्वी तट पर फ्रेंच गुयाना से साल 2021 में क्रिसमस पर लॉन्च किया गया था जिसका वजन 6,350 किलो है। 

ब्रह्मांड के खुलेंगे और भी रहस्य

James Webb Space Telescope | नासा ने इससे पहले टेलिस्कोप जेम्स वेब द्वारा ली गई गहरे-अंतरिक्ष की एक खूबसूरत टीजर फोटो जारी किया था। नासा ने इसमें बहुप्रतीक्षित डीप-स्पेस तस्वीरें अगले हफ्ते रिलीज करने की जानकारी दी थी। वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस शक्तिशाली उपकरण से ब्रह्मांड की उत्पत्ति से संबंधित कई रहस्य खुल सकते हैं।

James Webb Space Telescope | जिंदगी भर रहेगा असर

नासा ने बताया कि जेम्स वेब टेलीस्कोप के प्राइमरी मिरर पर बेहद छोटा उल्कापिंड टकराया था. इसका असर टेलीस्कोप पर आजीवन रहेगा. धरती पर मिरर का निर्माण और परीक्षण करते वक्त ऐसी घटनाओं का अनुमान लगाया गया था. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स को नासा ने बताया, जिस गति से चीजें अंतरिक्ष में चलती हैं, उसका मतलब है कि सबसे छोटा कण भी अगर किसी चीज से टकराता है तो काफी ज्यादा एनर्जी पैदा होती है. अब तक पांच बार चीजें इस टेलीस्कोप से टकरा चुकी हैं. 

हबल से अलग है इस टेलीस्कोप का डिजाइन

James Webb Space Telescope | जेम्स वेब टेलीस्कोप का डिजाइन ओपन है और इसके मिरर पर नलीदार प्रणाली नहीं लगी है, जो लेंस को बाकी चीजों से बचाती है. ये प्रणाली हबल टेलीस्कोप में यूज हुई है. इसके अलावा, एक बड़े सनशील्ड के पीछे रिफ्लेक्टर्स लगे हुए हैं, जिससे वे इन्फ्रारेड लाइट का पता लगाने के लिए स्थिर, ठंडे तापमान को बनाए रख पाते हैं. 

James Webb Space Telescope | निष्कर्ष – Conclusion

मित्रों! जेम्स वेब (First image of James Webb Space Telescope) के बारे में एक खास व अजीब बात बताऊँ! आगे चलकर जब जेम्स वेब अपनी पूरे क्षमता के साथ काम करने लगेगा, तब उसके लिए HD 84406 को देख पाना संभव नहीं होगा। क्योंकि जेम्स वेब का मिरर इतना काबिल हो चुका होगा की, HD 84406 से आने वाले काफी चमकदार प्रकाश के किरणों को ये सीधे तरीके से देख ही नहीं पाएगा। वैसे कुछ वैज्ञानिकों के अनुसार टेलीस्कोप अप्रैल के महीने से ही अपने फॉर्म में आने लगेगा। इसके अलावा जेम्स वेब अपने इंफ्रा-रेड सेंसर की भी सही तरीके से सैटिंग कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

eight − 2 =