Rohit Sardana Death News: मशहूर टीवी पत्रकार रोहित सरदाना का दिल के दौरे से निधन, मीडिया जगत में शोक की लहर

Rohit Sardana Death News: कोरोना वायरस संक्रमण दिल्ली-एनसीआर में कहर बरपा रहा है। बृहस्पतिवार को जाने-माने कवि और गीतकर कुंअर बेचैन की जान ली थी और एक दिन बाद शुक्रवार को चर्चित टेलीविजन पत्रकार रोहित सरदाना को क्रूर कोरोना ने ली लील लिया। जैसे ही यह खबर आई कि टेलीविजन जगत के बड़े पत्रकार रोहित सरदाना अब इस दुनिया में नहीं रहे, साथ पत्रकारों में शोक की लहर दौड़ गई। मिली जानकारी के मुताबिक वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना कोरोना से संक्रमित थे। हालात गंभीर होने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, इलाज के दौरान डॉक्टरों ने अंतिम सांस तक कोशिश की, लेकिन रोहित सरदाना को नहीं बचा सके। बताया जा रहा है कि अस्पताल में भर्ती रोहित सरदाना को शुक्रवार सुबह हार्टअटैक आने की वजह से उनका निधन हो गया। हालांकि, यह भी सच है कि वह कोरोना वायरस से संक्रमित थे। कुछ दिन पहले ही रोहित कोरोना संक्रमित हुए थे, लेकिन बाद में उनकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई थी। रोहित सरदाना के निधन पर पत्रकारिता जगत से जुड़े काफी लोगों ने शोक जाहिर किया है।

Rohit Sardana Death News टीवी पत्रकार रोहित सरदाना का दिल के दौरे से निधन

रोहित सरदाना के निधन को लेकर वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्विटर पर लिखा, ”बहुत ही भयानक समाचार है. जाने-माने टीवी न्यूज एंकर रोहित सरदाना का निधन हो गया है. आज सुबह दिल का दौरा पड़ा. उनके परिवार के प्रति गहरी संवेदना.”

Rohit Sardana Death News: चित्रा त्रिपाठी ने ज़्यादा शोक

वहीं आजतक मीडिया संस्थान से जुड़ी पत्रकार चित्रा त्रिपाठी ने लिखा, ”हंसता-खेलता परिवार, दो छोटी बेटियाँ. उनके लिए इस दंगल को हारना नहीं था रोहित सरदाना जी. आज सुबह चार बजे नोएडा के निजी अस्पताल में ICU में आपको ले ज़ाया गया और दिन चढ़ने के साथ ये बहुत बुरी खबर. कुछ कहने को अब बचा ही नहीं.”

रोहित सरदाना अपने सवालों और बोलने के तरीकों से लोगों के दिलों में बसते थे। उनके साथ काम करने वाले लोगों का कहना है कि रोहित सरदाना की हिंदी भाषा पर बहुत अच्छी पकड़ थी। बता दें कि साल 2018 में रोहित सरदाना को गणेश विद्यार्थी अवॉर्ड से नवाजा गया था। भले ही कोरोना की वजह से आज रोहित सरदाना इस दुनिया को अलविदा कह गए लेकिन एक दिन पहले तक वो सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय थे और लोगों की मदद कर रहे थे। रेमडेसिविर इंजेक्शन हो या अस्पताल में बेड, रोहित सरदाना अपने स्तर से लोगों की मदद कर रहे थे। 

यहां तक कि अपनी मौत से एक दिन पहले (29 अप्रैल) तक रोहित सरदाना ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए एक महिला को रेमडेसिविर इंजेक्शनों की व्यवस्था करने की गुहार लगाई थी। वहीं इससे पहले 28 अप्रैल को प्लाज्मा डोनेट करने की भी अपील की थी।

Credit: IndiaToday

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *