Social Research: Advantage and Disadvantage of using Smartphones Explained [Hindi]

कलियुग को मशीनी युग भी कहा गया है। इस मशीनी युग मे हम देखते हैं कि नई नई तकनीक संसार में अपना स्थान बनाती जा रही है। जहाँ बैलगाड़ी चला करती थी वहाँ आज जहाज तक बना लिए, जहाँ फसलें बोने व काटने में कई कई दिन लग जाते थे, वहीं आज कुछ घण्टों में फसल कटकर घर आ जाती है, देखते ही देखते कलियुग में मशीनों का उपयोग इतना बढ़ गया है कि आज मशीनों के बिना जीवन सम्भव दिखाई नहीं देता।

बहुत से तकनीकी यंत्र हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके हैं। परंतु जो यंत्र हमारे दैनिक जीवन में अहम भूमिका निभा रहा है, जिसके बिना हम बेचैन हो उठते हैं, सुबह उठते ही जिसे अपने पास देखकर हमें तस्सली हो जाती है, जो इस समय भी आपके हाथ में ही है, जी हाँ दोस्तों, हम बात कर रहे हैं मोबाइल फ़ोन (वर्ड पर दबाव) की।

नमस्कार दोस्तों!

खबरों की खबर के इस प्रोग्राम/कार्यक्रम में आज हम बात करने जा रहे हैं सूचना व संचार यंत्रो में सबसे अहम भूमिका निभा रहे मोबाइल फ़ोन की जो आज बच्चे से लेकर बूढ़े तक हर उम्र के लोगों के जीवन का एक हिस्सा बन चुका है।

तो चलिए शुरुआत करते हैं सूचना-संचार के इस अहम यंत्र: मोबाइल के इतिहास से

दोस्तों भारत में तेजी से मोबाइल फोन यूजर्स की संख्या में बढ़ोत्तरी हो रही है। बता दें कि मोदी टेलस्टरा नाम की कम्पनी ने भारत में सबसे पहले मोबाइल फ़ोन की सेवा सन 1995 में उपलब्ध करवाई थी। 31 जुलाई, 1995 में ही पश्चिम बंगाल के तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्योति बसु ने पहली मोबाइल कॉल कर तत्कालीन केंद्रीय दूरसंचार मंत्री सुखराम से बात की थी। 1995 में विदेश संचार निगम लिमिटेड ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर इंटरनेट कनेक्टिविटी का तोहफा भारत के लोगों को दिया। जो बच्चों से ले कर बड़ो तक, बड़ो से बूड़ो तक जहां देखों वहां आज हर किसी के सिर पर सवाँर है।

एक समय था जब मोबइल फोन का उपयोग केवल बात करने के लिए किया जाता था। पर आज के मोबाइल फ़ोन इंटरनेट का मोबाइल बन गये है। आज के स्मार्ट फ़ोन का प्रयोग करके हम अपने आस पास ही नही बल्कि देश-विदेश में होने वाली राजनीतिक, सांस्कृतिक, आर्थिक व सामाजिक घटनाओं की जानकारी भी घर बैठे चंद पलों में प्राप्त कर सकते हैं। ऑनलाइन बैंकिंग, रेलवे टिकट बुकिंग, होटल बुकिंग, ऑनलाइन कोचिंग, ऑनलाइन ट्रेडिंग, घर बैठे मोबाइल से कर लेते हैं। इंटरनेट कनेक्टिविटी के कारण मनोरंजन क्षेत्र में भी बदलाव आ गया है।

अब टीवी के बिना भी संगीत, फिल्में, गेम्स आदि का मोबाइल के जरिये लुफ्त उठाया जा सकता है। इसके साथ ही सोशल साइट्स फेसबुक, व्हाट्सएप्प आदि के आ जाने से हम दूर बैठे अपने रिश्तेदारों व मित्रों से face to face यानी वीडियो कॉल के जरिये connect हो सकते हैं। व्यापारियों के लिए भी मोबाइल बहुत फायदेमंद सिद्ध हुआ है, अमेज़ॉन, फ्लिपकार्ट आदि व्यापारिक एप्प्स के जरिये वे व्यापार में तरक्की कर रहे हैं। जिससे मोबाइल इंटरनेट एक तरह हमारे लिए वरदान बन गया है।

दोस्तों जहाँ एक तरफ मोबाइल फ़ोन के बहुत से लाभ हैं तो दूसरी और हानि भी कुछ कम नहीं।

अगर आपके पास भी स्मार्ट फ़ोन या आई फ़ोन है तो आज की news आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आज की खबर में हम आपको मोबाइल फोन से सम्बंधित ऐसे तथ्यों से अवगत करवाएंगे जिन्हें जानकर आप भी सोच में पड़ जाएंगे कि मोबाइल फ़ोन इस्तेमाल करना चाहिए या नही, यदि करें तो कैसे करें। पर आप निश्चिंत हो जाइए क्योंकि जो हानि मोबाइल फ़ोन कर रहा है उसे टाला भी जा सकता है। जानने के लिए बने रहिये हमारे साथ-

मोबाइल से होने वाले लाभ कौन नहीं जानता? पर यहाँ हम बात करेंगे मोबाइल के इस्तेमाल से हो रही ऐसी घटनाओं की जो हमारे जीवन को अव्यवस्थित कर रही हैं। मोबाइल फ़ोन से सबसे ज्यादा नुकसान आजकल के विद्यार्थियों को हो रहा है। देखा जाए तो स्मार्टफोन से विद्यार्थी भी लाभ उठा सकते हैं, परन्तु अधिकतर बच्चे इंटरनेट पर अपना समय व्यर्थ कर रहे हैं। मोबाइल पर गाने सुनना तो आम बात है लेकिन फिल्में देखना और वीडियो गेम्स खेलना जितना बढ़ गया है उसे अब नियंत्रित करना बहुत जरूरी हो गया है।

मनोरंजन का साधन- गेम्स, बच्चों में ऐसी लत लगा रहा है जैसे एक जुआरी को जुए की और नशेड़ी को नशे की लत लग जाती है जो देश के युवा के लिए खतरनाक है। गेम्स के अलावा दूसरी सोशल मीडिया साइट्स में भी लोगों का इतना फैलाव हो गया है कि उनके बिना जीवन अधूरा सा लगता है। अधिकतर बच्चे व्हाट्सएप्प, फेसबुक पर chatting करके समय की बर्बादी कर रहे हैं। जिससे पढ़ाई का स्तर गिरता ही जा रहा है।

Also Read: AIRTEL ने पेश किया देश का पहला 5G READY NETWORK, हैदराबाद में किया सफलपूर्वक परिक्षण

सिर्फ बच्चों में ही नहीं बल्कि आजकल हर व्यक्ति को फ़ोन की लत सी लग गयी है। जहाँ एक तरफ सोशल साइट्स के जरिये हम लोगों से जुड़ रहे हैं वहीं दूसरी और वास्तविकता में लोग एक दूसरे से दूर होते जा रहे हैं।

फेसबुक, इंस्टाग्राम आदि सोशल साइट्स पर अपनी दिनचर्या का प्रदर्शन करते हुए लोग बहुत खुश दिखाई देते हैं परंतु यह जानकर आप भी अचंभित हो उठेंगे कि वो लोग अंदर से एकदम अकेला महसूस करते हैं। जिससे वे डिप्रेशन या अन्य मानसिक रोगों का शिकार हो रहे हैं। यह तो सभी जानते ही हैं कि मोबाइल फ़ोन के अधिक इस्तेमाल से उससे निकलने वाली किरणे आंखों पर भी दुष्प्रभाव डाल रही है। मोबाइल में होने वाली वाइब्रेशन से शरीर के अन्य अंगों पर भी इसका गहरा प्रभाव पड़ रहा है जिसके प्रमाणस्वरूप/कारण लोग विभिन्न बीमारियां से ग्रस्त हो रहे हैं।

स्क्रीन पर लंबे समय तक नजर टिकाए रखने से आंखों की रोशनी के साथ-2 तनाव, सिरदर्द व नींद न आना जैसी समस्याएं भी उत्पन हो रही हैं। इसके साथ ही मोबाइल बैंकिंक की सुविधा आ जाने से बैंक कार्ड डिटेल्स की चोरी से पैसा चोरी होने की घटनाएं यानी साइबर क्राइम भी बड़ा हैं। आज कोई भी अपने सोशल मीडिया अकाउंट के माध्यम से आसानी से ब्राउज़ करके किसी की भी जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकता है। इसका परिणाम कभी कभी नुकसानदायक भी हो जाता है।

जैसे-जैसे मोबाइल फोन की उपयोगिता बढ़ी, उनकी खरीद और रखरखाव की लागत भी बढ़ती गई। आज लोग स्मार्ट फोन खरीदने पर अच्छी-खासी रकम खर्च कर रहे हैं। अगर फ़ोन में इंटरनेट न हो तो फोन बेकार लगने लगता है। जैसे किसी वाहन के लिए पेट्रोल या डिसेल जरूरी होता है उसी तरह फ़ोन के लिए इंटरनेट जरूरी हो गया है।

इन नुकसान व हानियों को जानकर आप मे से बहुत से लोग डर जाएंगे तो कुछ इन्हें इग्नोर भी करना चाहेंगे पर आपको बता दें कि इन सब लाभ व हानियों के साथ हम मोबाइल फोन से बहुत बड़ा लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Credit: SA News Channel

आप भी बहुत सी सोशल मीडिया साइट्स यूज़ करते होंगे। जैसे फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम, डेली हंट, यूट्यूब आदि। इनमें मनोरंजन के साथ साथ बहुत सी अच्छी जानकारी भी मिल जाती है। जैसे हाल ही में देखने में आया है कुछ लोग सामाजिक बुराइयों के खिलाफ आवाज उठाते नजर आते हैं तो वहीं कुछ लोग आध्यात्मिकता के उत्थान में लगे हैं। आज के इस समय में अधिकतर युवा आध्यात्मिकता से दूर होते जा रहे हैं जिस कारण समाज में बुराइयां बढ़ती जा रही है। परंतु मोबाइल का सदुपयोग कर रहे बहुत से युवा, लोगों में आध्यात्मिकता को उजागर कर रहे हैं।

दोस्तों हम बात कर रहे हैं जगतगुरु तत्वदर्शी सन्त रामपाल जी महाराज जी के अनुयायिओं की जिन्होंने इस मोबाइल के इस्तेमाल का तरीका ही बदल दिया है। उनके अनुसार मोबाइल में फिल्में देखने, गेम्स खेलने, गाने सुनने में समय व्यर्थ न करके मोबाइल से जनता की सेवा करना है। इन सोशल साइट्स पर लोगों को व्यापार करते सभी ने देखा होगा परन्तु सन्त रामपाल जी महाराज जी के अनुयायी जनता के हित व समाज के परोपकार के लिए निःशुल्क पुस्तक सेवा करने में लगे हैं। ये पुस्तकें बहुत ही अनमोल ज्ञान को समेटें हुए है जिसे जनता तक फ्री पहुंचाया जा रहा है। साथ ही पाखण्ड पूजा के खिलाफ आवाज उठाते अनुयायी अपने धार्मिक शास्त्रों से प्रमाणित ज्ञान लोगों में इन सोशल मीडिया साइट्स के जरिये पहुंचाने में लगे हैं। प्रतिदिन ट्विटर के माध्यम से नए नए खुलासे होते रहते है।

जिससे बहुत से लोग इस अनमोल ज्ञान को समझकर बुराइयों से पीछे हट रहे हैं और अपना जीवन सफल बना रहे हैं। ये सभी मोबाइल का सदुपयोग करके आप व औरों को भी सच्चाई दिखाकर समाज को सतर्क कर रहे है। जो सद्ग्रन्थ या ज्ञान की पुस्तक आप खरीदकर नही पढ़ सकते है वो अब मोबाइल से pdf के जरिये बिना किसी खर्च के आसानी से पढ सकते है। अब कोई भी व्यक्ति किसी भी सद्ग्रन्थ को आसानी से पढ़ सकता है। वास्तव में मोबाइल का सही उपयोग इस तरह से किया जा रहा हैं।

निष्कर्ष

इन सबसे निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि तकनीकी यंत्र मोबाइल में कोई खराबी नहीं है। वास्तव में इससे हमारा जीवन समृद्ध व आसान ही हुआ है। मोबाइल का सदुपयोग या दुरुपयोग उपयोगकर्ता पर निर्भर करता। यदि उपयोगकर्ता मोबाइल फोन का उपयोग सही तरीके से करता है तो मानव जीवन के विकास के साथ साथ आध्यात्मिकता का विकास होना भी तय है।

Weekly Bulletin By SA News Channel

  • 26 जनवरी के दिन किसानों द्वारा निकाली गई ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली के ITO चौराहे व अन्य कुछ जगहों पर किसानों और पुलिस के बीच हुई हिंसक मुठभेड़।
  • किसान आंदोलन के दौरान ट्रैक्टर हादसे में एक किसान की हुई मौत, पुलिस ने की पुष्टि।
  • अमरीकी प्रेसिडेंट Joe Biden ने की जर्मन चांसलर मर्केल से चर्चा, बातचीत में Transatlantic Alliance को मजबूत करने पर लगाया गया जोर।
  • Joe Biden ने पलटा Trump का एक और विवादित फैसला, पेंटागन में Transgenders की एंट्री पर लगा बैन हटाया। LGBT समुदाय ने किया नए राष्ट्रपति के फैसले का स्वागत, डोनाल्ड ट्रंप ने 2017 में सेना की भर्ती में रोक लगाई थी; पद संभालते ही विवादित फैसले पलट रहे हैं जो बाइडेन।
  • भारत-चीन सीमा विवाद को लेकर जारी बातचीत के बीच सिक्किम के नाकुला में हुई झड़प; हादसे में दोनों दलो के कई सैनिक हुए घायल।
  • राजस्थान के सीकर जिले में एक 25 वर्षीय महिला के साथ हुआ गैंगरेप, गश्त के दौरान रात में सड़क पर रोती मिली पीड़िता।
  • भारत से पहले भी दुनियाभर में कई देशों में है चुकी है ट्रैक्टर परेड; इतिहास में बर्लिन में 40 हजार किसानों ने रास्ते ब्लॉक कर दिए थे, वहीं नीदरलैंड्स में एक हजार KM (किलो मीटर) का लगा था जाम।
  • रूस ने 9 महीने बाद हटाया ट्रैवल बैन, भारत समेत फिनलैंड, वियतनाम, और कतर पर लगा था प्रतिबंध। रूसी दूतावास ने ट्वीट कर दी जानकारी।
  • अगले साल स्पेस स्टेशन पर जाएंगे 3 यात्री, ये यात्री SpaceX के रॉकेट से स्पेस स्टेशन के लिए किए जाएंगे रवाना।
  • किसानों के समर्थन में INLD नेता अभय चौटाला ने विधायक पद से दिया इस्तीफा
  • UP स्थापना दिवस पर प्रोग्राम में छोटे कपड़ों की वजह से ठंड में कांपते रहे बच्चे’, खबर दिखाने पर तीन पत्रकारों पर दर्ज हुई FIR
  • चीन 5जी टेक्नोलॉजी पर जोर-शोर से कर रहा है काम; 3 साल में 5जी की 30 फैक्ट्रियां लगाएगा चीन, यह प्रोजेक्ट 2023 तक होगा पूरा।
  • आंध्र प्रदेश में कोरोना टीका लगाने के बाद एक महिला डॉक्टर की तबियत हुई ख़राब , चिकित्सा अधिकारी ने की पृष्टि।
  • कुलगाम में सेना की रोड ओपनिंग पार्टी पर हुआ हमला, हादसे में एक जवान शहीद व तीन घायल।
  • दिल्ली दंगों पर हो रही है बड़ी कार्रवाई, पुलिस के हत्थे चढ़े लगभग 200 दंगाई, 5 किसान नेताओं सहित 22 लोगों के खिलाफ दर्ज हुई FIR ।
  • गुजरात के अमरेली जिले में एक तेंदुए ने आंगन में सो रहे बुजुर्ग को बनाया अपना शिकार, घटना स्थल पर जंजीर से बंधा मिला मृतक का एक हाथ।
  • 5G की रेस में Jio से आगे निकला Airtel, हैदराबाद में टेस्ट कर ऐसा करने वाला देश का पहला टेलीकॉम ऑपरेटर बना।
  • कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए ब्रिटेन ने 17 जुलाई तक लॉकडाउन बढ़ाया, वहीं पाकिस्तान में रूस की स्पूतनिक V वैक्सीन को मिली मंजूरी।
  • कोलकाता में मंत्री आवास के निकट फेका गया बम; मामले में पुलिस ने 6 लोगों को किया गिरफ्तार।
  • इक्कीसवीं सदी में भी महज 17 मिनट में बिना कोई बैंड बजा और बारात के है रहे है जोड़ों के विवाह। संत रामपाल जी महाराज जी के सानिध्य में राजस्थान और मध्यप्रदेश में ऐसे ही 4 अनोखे दहेज मुक्त विवाह हुए सम्पन्न। विवाह में ना कोई पंडित था और ना ही थी कोई रीति रस्में।
  • नए साल में संसद का बजट सत्र रहेगा हंगामेदार, विपक्ष की कृषि कानूनों समेत कई मुद्दों पर सरकार को घेरने की तैयारी।
  • राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक शख्स ने मंदिर में रखे पैसे लूटने के लिए मंदिर के केयरटेकर की कर दी हत्या।
  • विश्व आर्थिक मंच के दावोस संवाद में पीएम मोदी बोले- भारत ने कोरोना काल में सबसे ज्यादा जान बचाई।
  • जम्मू कश्मीर सरकार ने सभी स्कूल खोलने का लिया फैसला! साथ ही स्कूल संचालकों को एक फरवरी से स्कूल खोलने और कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत बच्चों के आने से पहले परिसरों को तैयार करने का दिया आदेश।
  • दिल्ली के पुलिस कमिश्नर ने जवानों को लिखी चिट्ठी, कहा- आने वाले दिन और चुनौतीपूर्ण हो सकते हैं, हर संभव परिस्थितियों के लिए रहें सतर्क।
  • देश में ब्रिटेन के नए कोरोना स्ट्रेन के अब तक 165 मामले सामने आए, सरकार ने दी जानकारी।
  • WHO ने कहा- ब्रिटेन में पाया गया नया कोविड-19 वैरिएंट अब 70 देशों में फैला; सभी देशों को ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत।
  • ताइवान के एक शख्स ने तीन दिन में 7 बार होम क्वारैंटाइन का नियम तोड़ा, परिणाम स्वरूप ताइवान सरकार ने लगाया 25 लाख रुपए का जुर्माना।
  • इजरायल में टीकाकरण के बाद नए मामलों में पाई गई 60% तक की कमी, रिपोर्ट में ट्रायल के मुकाबले ज्यादा एंटीबॉडी पाई गई।
  • सुप्रीम कोर्ट ने लगाई केंद्र सरकार को फटकार, कहा भड़काऊ टीवी कार्यक्रमों पर क्यों नहीं लगाते रोक
  • गुरुवार रात को गाजीपुर बॉर्डर पर खत्म हो रहा था किसानो का धरना प्रदर्शन पर राकेश टिकैत के आंसुओं ने बदला माहौल, रात में ही भारी संख्या में धरनास्थल पर पहुंचे किसान; बॉर्डर पर एकत्रित किसानों को देखकर पीछे हटी पुलिस।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *