World Braille Day 2021: क्या है विश्व ब्रेल दिवस तथा क्यों मनाया जाता है?

संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक विश्व भर में करीब 39 मिलियन लोग देख नहीं सकते जबकि 253 मिलियन लोगों में कोई न कोई दृष्टि विकार है. विश्व ब्रेल दिवस (World Braille Day) का मुख्य उद्देश्य दृष्टि-बाधित लोगों के अधिकार उन्हें प्रदान करना और ब्रेल लिपि को बढ़ावा देना है. आज हम जानेंगे ब्रेल लिपि क्या है?, World Braille Day History in Hindi (विश्व ब्रेल दिवस का इतिहास), World Braille Day 2021 Quotes.

World-Braille-Day-2021-images-poster-quotes-hindi
World-Braille-Day-2021-images-poster-quotes-hindi

ब्रेल लिपि क्या है?

ब्रेल एक लेखन पद्धति है. यह नेत्रहीन व्यक्तियों के लिए सृजित की गई थी. ब्रेल एक स्पर्शनीय लेखन प्रणाली है. इसे एक विशेष प्रकार के उभरे कागज़ पर लिखा जाता है. इसकी संरचना फ्रांसीसी नेत्रहीन शिक्षक और आविष्कारक लुइस ब्रेल ने की थी. इन्हीं के नाम पर इस पद्धति का नाम ब्रेल लिपि रखा गया है.

ब्रेल में उभरे हुए बिंदु होते हैं. इन्हें ‘सेल’ के नाम से जाना जाता है. कुछ बिन्दुओं पर छोटे उभार होते हैं. इन्हीं दोनों की व्यवस्था और संख्या से भिन्न चरित्रों की विशिष्टता तय की जाती है. ब्रेल की मैपिंग प्रत्येक भाषा में अलग हो सकती है.

ब्रेल लिपि के फायदे

ब्रेल लिपि के आविष्कार के बाद विश्वभर में नेत्रहीन, दृष्टिहीन या आंशिक रूप से नेत्रहीन लोगों की जिंदगी बहुत हद तक आसान हो गई. इसकी सहायता से ऐसे कई लोग अपने पैरों पर खड़े हो सके.

ऐसे आया था लुई ब्रेल लिपि का आइडिया

बता दें कि ब्रेल लिपि के अंतर्गत उभरे हुए बिंदुओं से एक कोड बनाया जाता है, जिसमें 6 बिंदुओं की तीन पंक्तियां होती हैं। इन्हीं में इस पूरे सिस्टम का कोड छिपा होता है। कहा जाता है कि ब्रेल लिपि का आइडिया लुई ब्रेल के दिमाग नेपोलियन की सेना के एक कैप्टन चार्ल्स बार्बियर की वजह से आया था, जो उनके स्कूल के दौरे पर आए थे।

■ Also Read: Savitribai Phule: जानिए देश की पहली महिला शिक्षिका सावित्र‍ीबाई फुले के जीवन से जुड़ी अहम बातें

उन्होंने बच्चों के साथ ‘नाइट राइटिंग’ नाम की तकनीक साझा की थी जिसकी मदद से सैनिक दुश्मनों से बचने के लिए उपयोग में लाया करते थे। इसके तहत वे उभरे हुए बिंदुओं में गुप्त संदेशों का आदान-प्रदान करते थे।

Credit: OneIndia Hindi

World Braille Day History in Hindi (विश्व ब्रेल दिवस का इतिहास)

लुई ब्रेल का जन्म 4 जनवरी 1809 को उत्तरी फ्रांस के कूपप्रे शहर में हुआ था। 6 डॉट्स की भाषा का आविष्कार लोकप्रिय ब्रेल के रूप में जाना जाता है। एक विशेष टाइपराइटर के साथ ब्रेल लिपि में तैयार की गई 17 साल लंबी परंपरा। इस पहल का उद्देश्य समाज में दृश्य विकलांगता वाले लोगों की दुर्दशा और कारण के बारे में जागरूकता फैलाना है।

■ Also Read: सीरम इंस्टिट्यूट और भारत बायोटेक को मिली आपात मंजूरी

World Braille Day 2021 Quotes

  •  “लुई ब्रेल ने कहा, ब्रेल ज्ञान है, और ज्ञान शक्ति है।”
  •  “विश्व ब्रेल दिवस के अवसर पर बधाई। जैसा कि हम लुई ब्रेल के जन्मदिन की याद दिलाते हैं, आइए हम नेत्रहीनों के लिए आसान जीवन के प्रति उनके योगदान को याद करें।”
  • “ब्रेल कई अवसरों को खोलता है, साक्षरता और संचार को बढ़ावा देता है, और लोगों को संबंध बनाने में मदद करता है”।
  • “यह दिन अपने आविष्कार ब्रेल कोड के साथ नेत्रहीन और नेत्रहीन लोगों की मदद करने में लुई ब्रेल के योगदान को पहचानता है।”
  •  “उन लोगों की सहायता करने के लिए ब्रेल कोड बनाने के लिए ब्रेल का धन्यवाद करना जो आत्मविश्वास से संवाद करने में सक्षम होने में असमर्थ हैं।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *