Ratnakar Matkari Death News in Hindi: नहीं रहे रत्नाकर मतकरी

आज हम आप को रत्नाकर मतकरी Biography (जीवनी) Ratnakar Matkari Death News in Hindi के बारे में बताएँगे

Ratnakar Matkari Death news hindi biography-photo-images
Ratnakar Matkari Death news hindi biography-photo-images

प्रमुख मराठी लेखक, डायरेक्टर और राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता रत्नाकर मतकरी (Ratnakar Matkari) का कोरोना वायरस की वजह से 81 वर्ष की उम्न में निधन हो गया। बीएसी के अधिकारियों के अनुसार रत्नाकर को पिछले सप्ताह में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी। रत्नाकर के परिजनों ने बताया उन्होंने रविवार रात को अंतिम सांस ली।

Ratnakar Matkari Death News in Hindi: बताया जा रह है की उन्हें कमजोरी की शिकायत की वजह से चार दिन पहले ही मुंबई के गोदरेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई. बताया जा रहा है कि गोदरेज अस्पताल में कोरोना संक्रमण की रिपोर्ट आने के बाद रत्नाकर को मुंबई के उपनगरीय इलाके में स्थित सैवन हिल्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वो उपचार करवा रहे थे। और वहीं पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

Ratnakar Matkari Biography in Hindi

रत्नाकर मतकरी (Ratnakar Matkari) का जन्म 17 नवम्बर 1998 को बम्बई (मुंबई) हुआ था. उन्होंने मुंबई विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र की डिग्री सन्न 1958 में प्राप्त की. उनकी बचपन से ही लेखन कार्य में रूची थी, उनकी इसी रुचि के कारण आज उन्होंने इतनी प्रसिद्धि प्राप्त हुई है, उन्हें एक बार राष्ट्रपति अब्दुल कलाम से नावेल पुरूस्कार भी मिल चुका है. लेकिन आज अफ़सोस के साथ कहना पड़ रहा है कि आज वो हमारे बीच नहीं रहे.

यह भी पढें: 15 May International Family Day 2020 Hindi: अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस की जानकरी

Ratnakar Matkari ने कई नाटकों जैसे प्रेम कहानी, अद्भुताच्या राज्यात, लोककथा, विनाशकादुन विनाशकादे में काम किया है। इसके अलावा 2013 में रिलीज हुई फिल्म ‘इनवेस्टमेंट’ का लेखन और निर्देशन भी मतकरी ने ही किया था।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जताया शोक

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने रत्नाकर के निधन पर शोक जताते हुए कहा है कि उनके निधन से पूरे भारत ने साहित्य जगत का एक अनमोल रत्न खो दिया है। ठाकरे ने आगे कहा कि रत्नाकर बच्चों से लेकर बड़ों तक, सबके लिए साहित्य लिखा करते थे। उनके योगदान खासकर नाटक, लघु कथाओं और उपन्यासों से मराठी साहित्य काफी लाभान्वित हुआ है।

Credit: Rajshri Marathi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *