National Farmers Day 2020 : जानिए क्या है ‘राष्ट्रीय किसान दिवस (Kisan Diwas)’ का इतिहास और महत्व?

National Farmers Day 2020: इस साल किसान आंदोलन के बीच ‘राष्ट्रीय किसान दिवस’ मनाया जा रहा है। पिछले 28 दिनों से किसान केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं। केंद्र सरकार का मानना है कि इन तीनों कानूनों से किसानों को बड़ा फायदा होगा। इससे बिचौलिए खत्म होंगे और किसानों की आय में इजाफा होगा, तो वहीं किसान तीनों कानूनों को खत्म करने की मांग पर अड़े हैं। इस बीच बुधवार को पूरे देश में ‘राष्ट्रीय किसान दिवस’ मनाया जा रहा है। हर साल 23 दिसंबर को देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के जन्मदिन पर ‘राष्ट्रीय किसान दिवस’ मनाया जाता है।

National Farmers Day 2020 History, Significance, Quotes of Kisan Diwas
National Farmers Day 2020 History, Significance, Quotes of Kisan Diwas

राष्ट्रीय किसान दिवस का महत्व (National Farmers Day Significance In Hindi)

भारत मुख्य रूप से गाँवों की भूमि है, जहाँ की अधिकांश आबादी कृषि किसानों की आय का मुख्य स्रोत है। हालांकि, इतने लोगों के लिए जीवन का सबसे प्रमुख साधन होने के बावजूद, बहुत से लोग उन समस्याओं के बारे में नहीं जानते हैं जो किसानों का सामना करती हैं। देश के इस संप्रदाय के बारे में आवश्यक जानकारी से लोग अंजान रहते हैं। इसलिए समारोह इन मुद्दों के बारे में लोगों को शिक्षित करने पर काम करते हैं, और कृषि क्षेत्र की नवीनतम सीखों के साथ किसानों को सशक्त बनाने पर भी ध्यान केंद्रित करते हैं।

किसान दिवस पर किसानों और खेती से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए कई बहस, मंच, चर्चाएँ, क्विज़ और प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। किसान दिवस पर यहां कुछ लोकप्रिय उद्धरण दिए गए हैं, जिन्हें आप समाज के किसानों के योगदान को समझने के लिए देश के नागरिकों में जागरूकता को बढ़ावा देने के लिए अपने दोस्तों, सहकर्मियों और परिवार को भेज सकते हैं।

Farmers Protest hindi news

किसान दिवस का इतिहास (National Farmers Day History In Hindi)

National Farmers Day Significance In Hindi: किसान दिवस एक सार्वजनिक अवकाश है, जो देश के किसानों और उनके काम का जश्न मनाता है. भारत में यह दिन 23 दिसंबर को मनाया जाता है. इस दिन को विशेष रूप से चौधरी चरण सिंह के उत्सव के लिए चुना गया था, जो देश में किसानों के कल्याण के लिए काम करने वाले अग्रदूतों में से एक थे. इस दिन को अर्थव्यवस्था में भारतीय किसानों की भूमिका को याद करने के लिए चिह्नित किया गया है. यह दिन चौधरी चरण सिंह की जयंती पर मनाया जाता है क्योंकि उन्होंने छोटे और सीमांत किसानों के मुद्दों को सबसे आगे लाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी. वह हमेशा किसानों के अधिकारों के लिए लड़े और खड़े रहे.

■ Also Read: Farmers Protest: जानिए क्या है कृषि बिल और किसान क्यों कर रहे हैं इसका विरोध?

राष्ट्रीय किसान दिवस कैसे मनाया जाता है?

  • किसानों को प्रोत्साहित करने और देश में उनके योगदान का जश्न मनाने के लिए राष्ट्रीय किसान दिवस पर देश भर में कई आयोजन किए जाते हैं।
  • इस दिन किसानों के लिए कई सेमिनार जिला और ब्लॉक स्तर पर आयोजित किए जाते हैं।
  • जिसमें कृषि अधिकारी और कृषि वैज्ञानिक किसानों को खेती करने करने के नए-नए तरीके और देश में फसलों के नवीनतम आकंड़ो को सांझा उनके साथ सांझा करते हैं।
  • इसके साथ ही सरकार भी इस दिन किसानों के हित के लिए नई नीतियों की घोषणा करती है। लेकिन दुर्भाग्यवश कई योजनाओं का किसान लाभ तक नहीं उठा पाते।

चौधरी चरण सिंह का किसानों के लिए योगदान

चौधरी चरण सिंह का जन्म एक किसान परिवार में हुआ था। जिसकी वजह से वह किसानों की समस्याओं को लेकर पूरी तरह अवगत थे। इसी कारण से उन्होंने किसानों को समर्थन देने की पूरी कोशिश की ,उन्होंने 28 जुलाई 1979 से 14 जनवरी 1980 तक भारत के प्रधान मंत्री के रूप में कार्य किया। जब 1979 का बजट तैयार किया गया था। उस समय यह बजट किसानों की मांगों को पूरा करने के लिए डिजाइन किया गया था। इस बजट में किसानों के लिए कई नीतियां पेश की गई थी। जो जमींदारों और साहूकारों के खिलाफ सभी किसानों को एक साथ लाने में सक्षम था।

Credit: Amar Ujala

विधानसभा में उनके द्वारा कृषि उपज मंडी विधेयक पेश किया गया था। जिसका मुख्य उद्देश्य डीलरों की मार के खिलाफ किसानों के कल्याण की रक्षा करना था।उन्होंने जमींदारी उन्मूलन अधिनियम को स्पष्ट रूप से लागू किया था। इसके अलानवा उन्होंने भारतीय किसानों को बचाने के लिए जवाहरलाल नेहरू की सामूहिक भूमि-उपयोग नीतियों के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व भी किया था।

■ Also Read: Farmer’s Bill 2020 Protest 2.0: Why Farmer Unions Are Unhappy Over the New Farm Laws? 

National Farmers Day 2020 Quotes in Hindi

  • सच्चा भारत अपने गांवों में बसता है।- चौधरी चरण
  • सिंह किसान की दशा सुधरेगी, तो देश सुधरेगा।- चौधरी चरण सिंह
  • धैर्य रखें! समय में, यहां तक कि दूध भी घास बन जाता है।- चौधरी चरण सिंह
  • दुख में हमारे दुश्मनों के लिए भी, हमारी आँखों में आँसू होने चाहिए।- चौधरी चरण सिंह
  • जब तक किसानों की आर्थिक स्तिथि ठीक नहीं होगी, तब तक देश प्रगति नहीं करेगा।- चौधरी चरण सिंह
  • सरलता दुख और गरीबी में जीने का मतलब नहीं है। आपके पास वह चीज़ है जिसकी आपको आवश्यकता है, और आप वह नहीं चाहते हैं जिसकी आपको आवश्यकता नहीं है।- चौधरी चरण सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *