World Pharmacist Day 2021: क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे, क्या है इसका इतिहास?

World Pharmacist Day 2021: आज यानी 25 सितंबर को हर साल दुनियाभर में वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे मनाया जाता है. हमारे स्वास्थ्य के लिए जितने जरूरी डॉक्टर हैं, उतने ही जरूरी फार्मासिस्ट हैं. स्वास्थ्य के क्षेत्र में फार्मासिस्ट की भागीदारी को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. इसीलिए हर साल विश्व फार्मासिस्ट दिवस की शुरुआत की गई, ताकि लोगों को इनके योगदान के बारे में हमेशा जानकारी रहे.

World Pharmacist Day 2021 Theme, Quotes, Importance, History in hindi

कैसे हुई वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे की शुरुआत (How world pharmacist day started)

विश्व फार्मासिस्ट दिवस की शुरुआत की बात करें, तो इस दिवस को मनाने का प्रस्ताव 2009 में तुर्की के इस्तांबुल में हुई International Pharmaceutical Federation (FIP) Council की बैठक में रखा गया था. इस दिन का उद्देश्य फार्मेसी फील्ड को प्रोत्साहित करने के लिए किया गया था. 25 सितंबर का दिन चुनने के पीछे की वजह यह थी कि इसी दिन 1912 में इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन की स्थापना हुई थी.

क्या है वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे 2021 की थीम (World Pharmacist Day 2021 Theme)

FIP ने इस साल विश्व फार्मासिस्ट दिवस की थीम ‘Pharmacy: Always Trusted for Your Health’ यानी फार्मेसी: हमेशा आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद रखा गया है. कोरोना काल में अस्पतालों और डॉक्टरों पर बहुत ज्यादा प्रेशर आ चुका था.

NIRF रैंकिंग 2021 में जामिया हमदर्द  है नंबर 1 फार्मेसी कॉलेज

बता दें कि जामिया हमदर्द को एनआईआरएफ रैंकिंग 2021 में भारत के फार्मेसी कॉलेजों में पहला स्थान मिला है. वहीं पंजाब विश्वविद्यालय और बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, पिलानी को क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रखा गया है।

वर्ल्ड फार्मासिस्ट डे 2021 – NIRF रैंकिंग के मुताबिक भारत के टॉप फार्मेसी कॉलेज

  1. जामिया हमदर्द, नई दिल्ली
  2. पंजाब विश्वविद्यालय, चंडीगढ़
  3. बिरला प्रौद्योगिकी और विज्ञान संस्थान, पिलानी
  4. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च मोहाली
  5. इंस्टीट्यूट ऑफ कैमिकल टेक्नोलॉजी, मुंबई
  6. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, हैदराबाद
  7. जेएसएस कॉलेज ऑफ फार्मेसी, ऊटी
  8. मणिपाल कॉलेज ऑफ फार्मास्युटिकल साइंसेज, मणिपाल उडुपी
  9. जेएसएस कॉलेज ऑफ फार्मेसी, मैसूर
  10. नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मास्युटिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, अहमदाबाद

वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे का इतिहास (History of World Pharmacist Day)

वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे का इतिहास अब सवाल उठता है कि आखिर 25 सितंबर को ही वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे क्यों मनाया जाता है, किसी अन्य दिन क्यों नहीं। इसके पीछे का कारण यह है कि 25 सितंबर 1912 को इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन (FIP) की स्थापना हुई थी। यह फार्मासिस्टों और दवा वैज्ञानिकों के राष्ट्रीय संघों का एक वैश्विक संघ है।

■ Also Read: Social Research: दुनिया में मेडिकल साइंस की तरक्की और चिकित्सा केंद्रों में डॉक्टरों की भूमिका

2009 में तुर्की के इस्तांबुल में एफआईपी परिषद ने प्रस्ताव दिया कि फार्मेसी क्षेत्र को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए हर साल 25 सितंबर को फार्मासिस्ट दिवस मनाया जाना चाहिए। क्योंकि इसी दिन एफआईपी की स्थापना भी हुई थी। 2009 के बाद से ही हर साल 25 सितंबर को वर्ल्‍ड फार्मासिस्ट डे मनाया जाता है।

Pharmacist Day का महत्व (Importance)

Health Department में Pharmacist एक महत्वपूर्ण किरदार निभाता है। स्वास्थ्य विभाग में सुधार करने तथा उन्हें Improve करने में ये अहम Role अदा करते हैं। आज हम स्वस्थ्य है इसके पीछे फार्मासिस्टों का भी अहम योगदान हैं।

Also Read: National Doctor’s Day 2021 पर जानिए वास्तविक चिकित्सक कौन है?

फार्मासिस्ट का मतलब क्या होता है?

फार्मासिस्ट ऐसे व्यक्ति को कहा जाता है जिसे दवाइयों के विषय में सम्पूर्ण ज्ञान होता है इन्हें दवा विशेषज्ञ भी माना जाता है। फार्मासिस्ट बनने के लिए फार्मेसी क्षेत्र में डिग्री हासिल करनी होती है। जिसके लिए 6-8 साल कॉलेज में (डी.फार्मा, बी. फार्मा और एम.फार्मा आदि करने में) लगाने होते है।

सबसे प्रसिद्ध फार्मासिस्ट कौन है?

(Mahadeva Lal Schroff) को फार्मेसी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारतीय फार्मेसी का जनक माना जाता है। वह पहली बार बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में फार्मेसी में 3 साल का पाठ्यक्रम पेश करने वालों में से थे।

फार्मासिस्‍ट बनने के लिए पढ़ाई किस तरह से करे

यदि आप भी फार्मासिस्‍ट बनना चाहते है तो आपको मैट्रिक सांइस साइड (जीव विज्ञान, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान) से उत्तीर्ण करना आवश्‍यक है। जिसके बाद आपको जीएनएम, एएनएम, बीएससी नर्सिग आदि में अपना दाखिला लेकर 4 वर्ष का कॉर्स करना होगा। उसके बाद आपको बी-फार्मासिस्‍ट की पढ़ाई हो जाती है उसके बाद आप राज्‍य या केन्‍द्र सरकार द्वारा शार्टिफिकट बनवाकर आप अपनी मेडिल संस्‍थ या फिर केमिस्‍ट की शॉप खोल सकते है। इसके अलाव और भी बहुत से ऑब्‍श्‍न है फार्मासिस्‍ट बनने के।

Credit: OneIndia Hindi

World Pharmacists Day Quotes in Hindi

  • एक अच्छा डॉक्टर बीमारी को ठीक कर देता है, लेकिन एक महान डॉक्टर कारण को ठीक कर देता है।”
  • “फार्माकोइनवायरनोलॉजी’ शब्द चिकित्सीय खुराक पर मनुष्यों और जानवरों को दी जाने वाली दवाओं के पर्यावरणीय प्रभाव से निपटने का प्रयास करता है”
  • “एक अक्षम डॉक्टर अभ्यास करता है, लेकिन एक सक्षम डॉक्टर प्रदर्शन करता है।”
  • “हम अक्सर दर्द निवारक दवाओं का श्रेय देते हैं जो समय बीतने के साथ दी जानी चाहिए, यह विश्वास कि वे दर्द को मार देंगे, या पानी जो उनके साथ था।”
  • “चिकित्सा कोई विज्ञान नहीं है; यह भूलों के नेटवर्क पर स्थापित अनुभववाद है।”

Note: यहां दी गई जानकारी किसी भी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी जा रही है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *