World Television Day 2020: विश्व दूरदर्शन (टेलीविजन) दिवस (21 नवम्बर)

आज हम आपको World Television Day 2020 के बारे में विस्तार से जानकारी Hindi में देंगे, जैसे World Television Day theme 2020, World Television Day Quotes, विश्व दूरदर्शन दिवस महत्व आदि.

World Television Day 2020 [Hindi] Theme, Quotes, दूरदर्शन के तथ्य

World Television Day कब मनाया जाता है?

प्रत्येक वर्ष 21 नवम्बर को विश्व के विभिन्न देशों में ‘विश्व दूरदर्शन दिवस’ अथवा अंतर्राष्ट्रीय टेलीविजन दिवस मनाया जाता है। दूरदर्शन विभिन्न प्रमुख आर्थिक और सामाजिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करते हुए पूरे विश्व के ज्ञान में वृद्धि करने में मदद करता है। वर्तमान में यह मीडिया की सबसे प्रमुख ताकत के रूप में उभरा है। यूनेस्को ने टेलीविज़न को संचार और सूचना के एक महत्वपूर्ण साधन के रूप में पहचाना है।

World Television Day in Hindi (विश्व दूरदर्शन दिवस का इतिहास)

संयुक्त राष्ट्र महासभा नें 17 दिसंबर 1996 को 21 नवम्बर की तिथि को विश्व टेलीविजन दिवस के रूप घोषित किया था। संयुक्त राष्ट्र नें वर्ष 1996 में 21और 22 नवम्बर को विश्व के प्रथम विश्व टेलीविजन फोरम का आयोजन किया था। इस दिन पूरे विश्व के मीडिया हस्तियों नें संयुक्त राष्ट्र के संरक्षण में मुलाकात की। इस मुलाक़ात के दौरान टेलीविजन के विश्व पर पड़ने वाले प्रभाव के सन्दर्भ में काफी चर्चा की गयी थी। साथ ही उन्होंने इस तथ्य पर भी चर्चा की कि विश्व को परिवर्तित करने में इसका क्या योगदान है। उन्होनें आपसी सहयोग से इसके महत्व के बारे में चर्चा की। यही कारण था की संयुक्त राष्ट्र महासभा नें 21 नवंबर की तिथि को विश्व टेलीविजन दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।

दूरदर्शन का पहला प्रसारण 15 सितंबर, 1959 को प्रयोगात्‍मक आधार पर आधे घण्‍टे के लिए शैक्षिक और विकास कार्यक्रमों के रूप में शुरू किया गया। उस समय दूरदर्शन का प्रसारण सप्ताह में सिर्फ तीन दिन आधा-आधा घंटे होता था। तब इसको ‘टेलीविजन इंडिया’ नाम दिया गया था बाद में 1975 में इसका हिन्दी नामकरण ‘दूरदर्शन’ नाम से किया गया। यह दूरदर्शन नाम इतना लोकप्रिय हुआ कि टीवी का हिंदी पर्याय बन गया।

World Television Day 2020 Theme

विभिन्न चर्चा के विषय विश्व टेलीविजन दिवस समारोह के उत्सवों को नियंत्रित करते हैं। हर साल कोई विशिष्ट विषय नहीं होते हैं, और इसके बजाय, एक मुद्दा उठाया जाता है और वर्ष में हल किया जाता है। लोकप्रिय चर्चा विषयों और विषयों में एक विशेष वैश्विक मंच के रूप में टेलीविजन का उपयोग करना, सांस्कृतिक सह-अस्तित्व और भाईचारे के साधनों को प्रोत्साहित करना, विविध संस्कृतियों से लोगों को आकर्षित करना, विविधता की दुनिया के बीच आम समझ को फैलाना, टेलीविजन और एक राष्ट्र के लोकतांत्रिक सेटअप के बीच संबंध को समझना है। और एक राष्ट्र की भलाई के सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक और भौगोलिक कार्य में इसकी बारीक भूमिका।

दूरदर्शन का अंतर्राष्ट्रीय प्रसारण

डीडी इंडिया उपग्रह चैनल का प्रसारण 146 देशों में किया गया है। यूके में, यह स्काई सिस्टम के चैनल 833 पर यूरोबर्ड उपग्रह के माध्यम से उपलब्ध था, इसका लोगो Rayat TV था। स्काई डिजिटल के माध्यम से ट्रांसमिशन जून 2008 में समाप्त हो गया, परंतु जुलाई 2008 में संयुक्त राज्य में DirecTV के माध्यम से इसे पुनः शुरू किया गया।

दूरदर्शन की वर्तमान स्थिति

प्रसार भारती दूरदर्शन का मूल निकाय है, और इसके बोर्ड के सदस्यों को भारत सरकार द्वारा सूचना और प्रसारण मंत्रालय के माध्यम से नियुक्त किया जाता है। सरकार के प्रचार प्रसार के लिए, विशेष रूप से आपातकाल के दौरान, दूरदर्शन का उपयोग किया गया है। 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान, कहानी को रिपोर्ट करने के लिए केवल सरकारी स्रोतों का उपयोग किया गया था।

■ यह भी पढ़ें: International Men’s Day 2020: अंतरराष्ट्रीय पुरुष दिवस पर जानिए इसका महत्व

2004 में इसने आपातकाल के दौरान विपक्षी नेता जयप्रकाश नारायण पर एक विवादित वृत्तचित्र को सेंसर किया। जब दूरदर्शन ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नेता मोहन भागवत के 70 मिनट के विजयादशमी भाषण का प्रसारण किया, तो नरेंद्र मोदी प्रशासन और भाजपा की आलोचना की गई कि वह सार्वजनिक आपदा का “दुरुपयोग” कर रहे हैं। डीडी के महानिदेशक अर्चना दत्ता के अनुसार, “भाषण किसी अन्य समाचार कार्यक्रम की तरह था, इसलिए हमने इसे कवर किया।”

चूंकि 1991 में निजी टेलीविजन चैनलों को अधिकृत किया गया था, दूरदर्शन ने दर्शकों की संख्या में भारी गिरावट का अनुभव किया है। यद्यपि यह महत्वपूर्ण विज्ञापन राजस्व कमाता है – अपनी अनिवार्य फीड के कारण – राष्ट्रीय घटनाओं (क्रिकेट मैचों सहित) के लिए उच्चतम बोली लगाने वाले से, भारत में एक टेलीविजन के लिए लाइसेंस शुल्क लगाकर इसे निधि देने का प्रस्ताव किया गया है।

हमारे दैनिक जीवन पर टेलीविजन का प्रभाव

वर्तमान समाज में, सूचना प्रौद्योगिकी और संचार के इस्तेमाल नें हमारी निर्भरता को मनोरंजन, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, व्यक्तिगत संबंधों, यात्रा आदि के सन्दर्भ में इस पर निर्भर बना दिया है जिसकी वजह से आज हम इसके गुलाम जैसे हो गए हैं. हम पूरी तरह से कह सकते हैं की वर्तमान में सूचन तकनीकी नें पूरे विश्व को अपने हाथों में नियंत्रित कर लिया है.

■ यह भी पढ़ें: 20 November Universal Children’s Day: Know about True Devotion on World Children’s Day 2020 

World Television Day पर जानिए दूरदर्शन का महत्त्व

टेलीविज़न के आविष्कार ने सूचना के क्षेत्र में एक क्रांति का आगाज़ किया था। दूसरी क्रांति का आगमन उस समय हुआ, जब वैश्विक स्तर पर टेलीविज़न के महत्व के बारे में लोगों को पता चला और लोगों ने इसे स्वीकार कर लिया। चूँकि मिडिया ने वर्तमान में हमारे जीवन में इतना अधिक हस्तक्षेप कर दिया है कि हमें इसके महत्व के बारे में काफ़ी जानकारी नहीं मिल पाती। वर्तमान में हम इसके महत्व को नकार नहीं सकते। हमें इसके महत्व को समझते हुए इसका व्यापक इश्तेमाल करना चाहिए ताकि मीडिया के सूचना से सम्बंधित दुरुपयोग को रोका जा सके। साथ ही इसके प्रभाव को कम किया जा सके।

दैनिक जीवन पर प्रभाव

वर्तमान समाज में सूचना प्रौद्योगिकी और संचार के इस्तेमाल ने हमारी निर्भरता को मनोरंजन, शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल, व्यक्तिगत संबंधों, यात्रा आदि के सन्दर्भ में इस पर निर्भर बना दिया है, जिसकी वजह से आज हम इसके गुलाम जैसे हो गए हैं। हम पूरी तरह से कह सकते हैं कि वर्तमान में सूचना तकनीकी ने पूरे विश्व को अपने हाथों में नियंत्रित कर लिया है।

Credit: Hindi Webduniya

दूरदर्शन के बारे में महत्वपूर्ण सामान्य ज्ञान तथ्य

  • दूरदर्शन की देश में महानगरों में शुरुआत: दिल्‍ली (09 अगस्‍त 1984), मुम्‍बई (01 मई 1985), चेन्‍नई (19 नवम्‍बर 1987), कोलकाता (01 जुलाई 1988)
  • 26 जनवरी 1993: मेट्रो चैनल शुरू करने के लिए एक दूसरे चैनल की नेटवर्किंग हुई।
  • 14 मार्च 1995: अंतर्राष्‍ट्रीय चैनल डीडी इंडिया की शुरूआत हुई।
  • 23 नवम्‍बर 1997: प्रसार भारती का गठन (भारतीय प्रसारण निगम) हुआ।
  • 18 मार्च 1999: खेल चैनल डीडी स्‍पोर्ट्स की शुरूआत हुई।
  • 26 जनवरी 2002: संवर्धन/सांस्‍कृतिक चैनल की शुरूआत हुई।
  • 03 नवम्‍बर 2002: 24 घण्‍टे के समाचार चैनल डीडी न्‍यूज की शुरूआत हुई।
  • 16 दिसम्‍बर 2004: निशुल्‍क डीटीएच सेवा डीडी डाइरेक्‍ट की शुरूआत हुई।

World Television Day Quotes

A day without television would be a disaster and I cannot even imagine it.

The television is where I saw my first cartoon, my first movie, my first series and so it will never be replaced with the smartphone that I use today.

One of the reasons I do not travel much is because television is not portable and I cannot carry it everywhere I go.

The television is now more of a necessity than a luxury that it used to be in its early days and almost all of the houses have it.

The television and I have the world’s best relationship because we see each other every day and I am pretty sure it loves me as much as I love it.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *