5G Spectrum Auction [Hindi] | 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी छठवें दिन जारी, सितंबर तक भारत में शुरू हो सकता है 5 G

5G Spectrum Auction [Hindi] सितंबर तक भारत में शुरू हो सकता है 5G

5G Spectrum Auction [Hindi] | 5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी रविवार को छठवें दिन भी जारी है. इसमें अल्ट्रा हाई स्पीड इंटरनेट के लिए मोबाइल कंपनियां पिछले छह दिन से बोलियां लगा रही हैं. पिछले पांच दिन में सरकार को 1,49,966 रुपये की बोलियां मिली हैं. स्पेक्ट्रम की नीलामी में देश की चार प्रमुख कंपनियां रिलायंस जियो, भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और अडाणी एंटरप्राइजेज हिस्सा ले रही हैं. रविवार को 31वें राउंड के साथ बोलियां शुरू की गईं और खबर लिखे जाने तक यह जारी है.

क्या कहा टेलीकॉम मंत्री ने

शनिवार को टेलीकॉम स्पेक्ट्रम की नीलामी 1.5 लाख करोड़ रुपये के आसपास पहुंच गई. इसके बारे में टेलीकॉम मंत्री अश्विनी वैष्णव ने कहा कि 5जी नीलामी से स्पष्ट है कि टेलीकॉम इंडस्ट्री और आगे बढ़ना चाहती है. अब यह इंडस्ट्री परेशानियों से बाहर निकल चुकी है और ग्रोथ फेज में प्रवेश कर चुकी है. नीलामी के नतीजे बहुत अच्छे रहे हैं और अब तक स्पेक्ट्रम खरीद के लिए कंपनियों ने 1,49,966 करोड़ रुपये की बोलियां लगाई हैं. टेलीकॉम मंत्री ने कहा कि नीलामी की अच्छी प्रतिक्रिया टेलीकॉम इंडस्ट्री में आए मैच्योरिटी की ओर इशारा करती है.

5G Spectrum Auction [Hindi] | 5जी सर्विस का फायदा

5जी स्पेक्ट्रम की नीलामी में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जियो, सुनील मित्तल की भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और गौतम अडाणी की कंपनी अडाणी एंटरप्राइजेज हिस्सा ले रही हैं. 5जी स्पेक्ट्रम में 4जी से 10 गुना अधिक तेज इंटरनेट मिलने का दावा किया जा रहा है. ऐसा भी दावा है कि कनेक्टिविटी में कोई रुकावट नहीं आएगी और रियल टाइम में अरबों डिवाइस को डाटा शेयरिंग की सुविधा मिलेगी. भीड़-भाड़ वाले इलाकों में भी सेकंड के कुछ हिस्से में ही एक पूरी मूवी डाउनलोड की जा सकेगी. स्वास्थ्य सुविधाओं के अलावा मोबाइल क्लाउड गेमिंग में पूरी मदद मिलेगी.

15 अगस्त से पहले स्पेक्ट्रम आवंटन

बोलियां लगाने वाली मोबाइल कंपनियों को 7500 करोड़ रुपये की रकम चुकानी है. इसके बाद सरकार कंपनियों को 15 अगस्त से पहले स्पेक्ट्रम का आवंटन करेगी. कंपनियां सितंबर-अक्टूबर तक 5जी सेवाओं की शुरुआत कर सकती हैं. जिन कंपनियों ने स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए बोलियां लगाईं, उनमें मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो, सुनील मित्तल की भारती एयरटेल, वोडाफोन आइडिया और गौतम अडाणी की अडाणी एंटरप्राइजेज शामिल हैं.

Also Read | Azadi Ka Amrit Mahotsav [Hindi] | इस 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस) पर हर घर तिरंगा कि योजना

5G Spectrum Auction [Hindi] | नीलामी से सरकार ने कितना कमाया

7 दिनों तक चली 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी से सरकार को अडाणी कम्यूनिकेशन से 212 करोड़ रुपए मिले. भारती एयरटेल ग्रुप से 43084 करोड़ रुपए मिले, रिलायंस जियो से 88078 करोड़ रुपए मिले और वोडाफोन से 18799 करोड़ रुपए मिले हैं. ये भुगतान कंपनियां तय किश्तों में चुकाएंगी. 

5जी से इंटरनेट स्पीड होगी 10 गुनी तेज

माना जा रहा है कि एक बार टेलीकॉम कंपनियों को 5जी स्पेक्ट्रम आवंटन के बाद अक्टूबर, 2022 में देश के कई बड़े शहरों में 5जी मोबाइल सेवा की शुरूआत हो जाएगी. बहरहाल 5जी मोबाइल सर्विस के शुरू होने के बाद मोबाइल टेलीफोनी और इंटरनेट की दुनिया ही बदल जाएगी. एक अनुमान के मुताबिक 5जी की स्पीड 4जी से 10 गुना ज्यादा है.

Also Read | Agniveer Scheme [Hindi] | अग्निपथ (Agnipath) योजना पर युवाओं का आक्रोश, केंद्र सरकार के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन

5G Spectrum Auction [Hindi] | 5जी सर्विस शुरू होने के बाद ऑटोमेशन का नया दौर शुरू होगा. अभी तक जो चीजें बड़े शहरों तक सीमित है उनकी पहुंच गांवों तक होगी जिसमें ई-मेडिसीन शामिल है, शिक्षा और कृषि क्षेत्र को जबरदस्त फायदा होगा. 5जी सेवा के लॉन्च होने के बाद देश में डिजिटल क्रांति को नया आयाम मिलेगा. रोबोटिक्स तकनीक का विकास होगा. देश की अर्थव्यवस्था को गति मिलेगी साथ ही ई-गवर्नेंस का विस्तार होगा. 

5G Spectrum Auction [Hindi] | स्पेक्ट्रम क्या है और यह कैसे काम करता है?

5G Spectrum Auction [Hindi] | एयरवेव्स इलेक्ट्रोमैग्नेटिक स्पेक्ट्रम के भीतर रेडियो फ्रीक्वेंसी हैं जो टेलीकॉम सहित कई सर्विसेज के लिए वायरलेस तरीके से सूचना ले जा सकती हैं। सरकार इन एयरवेव्स का मैनेजमेंट और आवंटन करती है। स्पेक्ट्रम को लो फ्रीक्वेंसी से लेकर हाई फ्रीक्वेंसी तक के बैंड में डिवाइड किया जा सकता है। हाई-फ्रीक्वेंसी वेव ज्यादा डेटा ले जाती हैं और लो-फ्रीक्वेंसी वेव की तुलना में तेज होती हैं, लेकिन इन्हें आसानी से ब्लॉक या ऑब्सट्रक्ट किया जा सकता है। लोअर-फ्रीक्वेंसी वेव वाइडर कवरेज प्रदान कर सकती हैं।

5G शुरू होने से क्या फायदे होंगे?

  • पहला फायदा तो ये होगा कि यूजर तेज स्पीड इंटरनेट इस्तेमाल कर सकेंगे।
  • वीडियो गेमिंग के क्षेत्र में 5G के आने से बड़ा बदलाव होगा।
  • वीडियो बिना बफरिंग या बिना रुके स्ट्रीम कर सकेंगे।
  • इंटरनेट कॉल में आवाज बिना रुके और साफ-साफ आएगी।
  • 2 GB की मूवी 10 से 20 सेकेंड में डाउनलोड हो जाएगी।
  • कृषि क्षेत्र में खेतों की देखरेख में ड्रोन यूज संभव होगा।
  • मेट्रो और बिना ड्राइवर चलने वाली गाड़ियों को ऑपरेट करना आसान होगा।
  • वर्चुअल रियलिटी और फैक्ट्री में रोबोट यूज करना ज्यादा आसान होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

three × 2 =