International Peace Day in Hindi: जानिए कैसे हुई अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस की शुरुआत?

International Peace Day in Hindi जानिए कैसे हुई अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस की शुरुआत

International Peace Day in Hindi: आज पूरी दुनिया में मनाया जा रहा है विश्व शांति दिवस, जानिए कैसे हुई थी इस खास दिन की शुरुआत ।

अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस मुख्य बिंदु

  • विश्व शांति दिवस 2022 (International Peace Day in Hindi)
  • जानिए कैसे हुई थी इस खास दिन की शुरुआत
  • क्या है अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस का मुख्य उद्देश्य
  • 1981 में UN में हुआ था प्रस्ताव पारित
  • क्या है इस साल अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस की थीम
  • पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू ने भी दिया था शांति का मूल मंत्र
  • विश्व शांति दिवस के मौके पर आसमान में उड़ाए जायेंगे “शांति दूत”
  • कबीर परमेश्वर जी की भक्ति करने से ही मिल सकती है पूर्ण शांति

कैसे हुई थी International Peace Day खास दिन की शुरुआत?

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी 21 सितंबर को पूरी दुनिया में विश्व शांति दिवस मनाया जा रहा है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी देशों में आपस में समन्वय एवं भाईचारे कायम रखने के लिए इस खास दिन की शुरुआत हुई थी। इस दिन सफेद कबूतरों को खुले आसमान में शांतिदूत के तौर पर उड़ाकर शांति का संदेश दिया जाता है।

यह भी पढ़े: Hindi Diwas: हिंदी दिवस पर Short निबंध (Essay)

अंतरराष्ट्रीय विश्व शांति दिवस की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय (न्यूयॉर्क) में संयुक्त राष्ट्र शांति की घंटी बजाकर की जाती है। इस घंटी के एक तरफ लिखा है कि विश्व में सदैव शांति बनी रहे यह घंटी अफ्रीका महाद्वीप को छोड़कर बाकी सभी महाद्वीपों के बच्चों के द्वारा दान किए गए सिक्कों से बनाई गई थी। खास बात यह है कि जापान के यूनाइटेड नेशनल एसोसिएशन के द्वारा इस घंटी को तोहफे में दिया गया था।

अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस का इतिहास (International Peace Day History)

दुनियाभर में अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस को मनाए जाने की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र ने 1981 में की थी. जिसके बाद पहली बार इसे साल 1982 के सितंबर माह के तीसरे मंगलवार को मनाया गया था. जिसके बाद 1982 से लेकर साल 2001 तक अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस को सितंबर माह के तीसरे मंगलवार को मनाया गया. वहीं संयुक्त राष्ट्र ने साल 2002 से इसे 21 सितंबर को मनाए जाने की घोषणा की थी. जिसके बाद से लेकर अभी तक हर साल 21 सितंबर के दिन अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस मनाया जा रहा है.

अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस की महत्व (International Peace Day Importance)

संयुक्त राष्ट्र ने हर साल की तरह इस साल भी अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस मनाए जाने के लिए थीम अनाउंस की है. इस साल अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस की थीम ‘एक समान और सतत विश्व के लिए बेहतर रिकवरी’ का चयन किया गया है. कोरोना महामारी पर ध्यान केंद्रित करते हुए संयुक्त राष्ट्र संघ का कहना है कि महामारी के इस दौर में दया, आशा और करूणा से अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस को मनाएं, साथ ही भेदभाव या घृणा को खत्म करने के लिए संयुक्त राष्ट्र के साथ खड़े हों.

International Peace Day in Hindi-क्या है अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस का मुख्य उद्देश्य?

  • इस खास दिन के मनाने का मकसद सिर्फ इतना है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सभी देशों में आपस में एकता एवं विस्तारवाद की नीति कायम रहे। तथा कोई भी राष्ट्रों के बीच युद्ध की स्थिति ना बने।
  • अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस के मौके पर सिविल सोसायटी स्कूलों, कॉलेजों संयुक्त राष्ट्र संघ, संस्थाएं, गैर-सरकारी संगठन, में शांति दिवस के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है।
  • इस दिन पूरे भारत में लोग जगह-जगह पर सफेद रंग की कबूतर उड़ा कर एक दूसरे को शांति का संदेश देते हैं

1981 में UN में हुआ था प्रस्ताव पारित

सन 1981 में विभिन्न राष्ट्रों के द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में विश्व शांति दिवस का प्रस्ताव रखा गया था। जिसे संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्वीकार कर लिया गया और सर्वप्रथम 1982 में UN द्वारा इस खास दिन को मनाने की घोषणा कर दी गई।

सन 2001 तक इसे सितंबर माह के तीसरे मंगलवार को मनाया जाता था। लेकिन सन 2002 में संयुक्त राष्ट्र संघ के द्वारा 21 सितंबर को पूरी दुनिया में इसे मनाने की घोषणा कर दी गई।

इस साल अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस की थीम (Theme) क्या है

इस वर्ष 2022 में विश्व अंतर्राष्ट्रीय शांति दिवस की थीम ‘जातिवाद खत्म करें, शांति का निर्माण करें‘ (End Racism. Build Peace) ‘ रखी गयी है।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने विश्व शांति दिवस पर की ये अपील

International Peace Day in Hindi | संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने विश्व शांति दिवस पर एकजुटता और एकता का आह्वान किया है। एंटोनियो गुटेरेस ने कहा है कि इस बार अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस ऐसे समय है, जब मानवता संकट में है। कोरोना से 4 मिलियन से अधिक जीवन प्रभावित हुई हैं। लोगों का संघर्ष नियंत्रण से बाहर है, दुनिया में असमानता और गरीबी बढ़ रही है, जलवायु परिवर्तन आपात स्थिति में है, विज्ञान से लोगों का भरोसा उठ रहा है, ऐसे में हम सभी दुनिया के देशों से अपील करते हैं कि वो एक साथ आएं और एक-दूसरे की मदद करें।

पूर्व प्रधानमंत्री नेहरू ने भी दिया था शांति का मूल मंत्र

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने विश्व में शांति बनाए रखने के लिए 5 मूल मंत्र दिए थे जिसे पंचशील सिद्धांत के नाम से जाना जाता है पंडित जवाहरलाल नेहरू ने एक-दूसरे राष्ट्रों के बीच अखंडता एवं शांति बनाए रखने की बात भी कही थी

Credit: Talk with shivi

कबीर परमेश्वर जी की भक्ति करने से ही मिल सकती है पूर्ण शांति

जैसा कि यजुर्वेद अध्याय 5 मंत्र 32 में कहा गया है कि वह पूर्ण शांतिदायक परमात्मा कबीर परमेश्वर जी है। शास्त्रों के अनुसार कबीर परमेश्वर जी की भक्ति करने से ही हमें पूर्ण शांति मिल सकती है।

यजुर्वेद अध्याय 29 मंत्र 25 में प्रमाण है कि जिस समय भक्त समाज को शास्त्रविधि त्यागकर मनमाना आचरण करवाया जा रहा होता है उस समय (कविर्देव) कबीर परमेश्वर तत्वज्ञान को प्रकट करता है। पवित्र सामवेद संख्या 359 अध्याय 4 खंड 25 श्लोक 8 में प्रमाण है कि जो (कविर्देव) कबीर साहिब तत्वज्ञान लेकर संसार में आता है वह सर्वशक्तिमान सर्व सुखदाता और सर्व के पूजा करने योग्य है

अपने जीवन को सफल बनाने के लिए आज ही जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी से नामदिक्षा लेकर मानव जीवन को सफल बनाएं और सभी बुराईयो से छुटकारा पाकर सुखी जीवन जिएं। जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज जी से मुफ्त नाम की दीक्षा ले और पढ़ें दुनिया की सबसे अधिक डाउनलोड की जाने वाली सबसे लोकप्रिय आध्यात्मिक बुक जीने की राह

Quotes On International Peace Day In Hindi

यहाँ शांति उद्धरणों के कुछ अंतर्राष्ट्रीय दिवस हैं। ये प्रेरणादायक उद्धरण भारत के साथ-साथ भारत के बाहर के विभिन्न प्रसिद्ध लोगों द्वारा दिए गए हैं। तो चलिए शुरू करते हैं-

  • अहिंसा का अर्थ केवल बाहरी शारीरिक हिंसा से ही नहीं बल्कि आत्मा की आंतरिक हिंसा से भी बचना है। आप न केवल एक आदमी को गोली मारने से इनकार करते हैं, बल्कि आप उससे नफरत करने से भी इनकार करते हैं। ” – मार्टिन लूथर किंग जूनियर।
  • अहिंसा का मार्ग सम्मान का मार्ग है। यह प्रत्येक प्राणी के प्रति सम्मान है। यह प्रत्येक प्राणी की चेतना को जगाने का मार्ग है।” — अमित राय
  • शांति की शुरुआत मुस्कान से होती है।” – मदर टेरेसा
  • हम उस समय की प्रतीक्षा कर रहे हैं जब प्रेम की शक्ति शक्ति के प्रेम का स्थान ले लेगी। तब हमारी दुनिया को शांति का आशीर्वाद मालूम होगा?” – विलियम इवार्ट ग्लैडस्टोन
  • यदि आप अपने दुश्मन के साथ शांति बनाना चाहते हैं, तो आपको अपने दुश्मन के साथ काम करना होगा। फिर वह आपका साथी बन जाता है।” – नेल्सन मंडेला
  • अहिंसा हमारे समय के महत्वपूर्ण राजनीतिक और नैतिक प्रश्नों का उत्तर है; उत्पीड़न और हिंसा का सहारा लिए बिना उत्पीड़न और हिंसा पर काबू पाने के लिए मानव जाति की आवश्यकता। मानव जाति को सभी मानवीय संघर्षों के लिए एक ऐसा तरीका विकसित करना चाहिए जो प्रतिशोध, आक्रामकता और प्रतिशोध को अस्वीकार करता हो। ऐसी पद्धति का आधार प्रेम है।” – मार्टिन लूथर किंग
  • मुझे पता है, किसी के सीने से क्रोध को पूरी तरह से दूर करना एक मुश्किल काम है। इसे शुद्ध व्यक्तिगत प्रयास से हासिल नहीं किया जा सकता है। यह केवल ईश्वर की कृपा से ही किया जा सकता है।” – महात्मा गांधी
  • जीवन का मुख्य उद्देश्य सही तरीके से जीना, सही सोचना, सही काम करना है। जब हम अपना सारा विचार शरीर को देते हैं तो आत्मा को मरना चाहिए। ” – महात्मा गांधी
  • अहिंसा बलवानों का हथियार है। अहिंसा मानव जाति के निपटान में सबसे बड़ी शक्ति है। यह मनुष्य की चतुराई से तैयार किए गए विनाश के सबसे शक्तिशाली हथियार से भी अधिक शक्तिशाली है।” – महात्मा गांधी
  • मैं तुम्हें हिंसा नहीं सिखा सकता, क्योंकि मैं स्वयं उस पर विश्वास नहीं करता। मैं आपको केवल यह सिखा सकता हूं कि अपने जीवन की कीमत पर भी किसी के सामने अपना सिर न झुकाएं। ” – महात्मा गांधी
  • अहिंसा केवल दुनिया के वीर पुरुषों और महिलाओं के लिए है क्योंकि जीवन की सुंदरता, मानवता की सुंदरता और दुनिया की सुंदरता से प्यार करने के लिए साहस की आवश्यकता होती है।” – अमित रे, अहिंसा: द ट्रांसफॉर्मिंग पावर
  • अहिंसा का मतलब यह नहीं है कि हमें अन्याय को निष्क्रिय रूप से स्वीकार करना होगा। हमें अपने अधिकारों के लिए लड़ना है, हमें अन्याय का विरोध करना है। – दलाई लामा
  • जब प्रेम की शक्ति शक्ति के प्रेम पर विजय प्राप्त करती है, तो दुनिया को शांति के रूप में जाना जाएगा।” – जिमी हेंड्रिक्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.

5 × three =