Shigella Bacteria Outbreak: केरल में ‘शिगेला’ बैक्टीरिया का कहर, 58 लोग बीमार, एक की मौत; जाने पूरा मामला

Shigella Bacteria Outbreak केरल में ‘शिगेला’ बैक्टीरिया का कहर, 58 लोग बीमार

Shigella Bacteria Outbreak: केरल में हाल में एक ढाबे पर खाना खाने के बाद कई लोगों के बीमार पड़ने और एक लड़की की मौत के मामले में अधिकारियों का कहना है कि ऐसा ‘शिगेला बैक्टीरिया’ ( (Shigella Bacteria) की वजह से हो सकता है।

अधिकारी ने कहा कि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य अधिकारी आम लोगों और ढाबों के मालिकों के बीच इस संबंध में जागरूकता के लिए काम कर रहे हैं कि बैक्टीरिया कैसे फैलता है, इससे संक्रमित होने से कैसे बचा जाए और इसे नियंत्रित करने के लिए क्या उपाय किए जा सकते हैं. उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा विभिन्न भोजनालयों और रेस्तरांओं का निरीक्षण किया जा रहा है. इसके अलावा स्थानीय जलापूर्ति की भी जांच की जा रही है. उन्होंने कहा कि बैक्टीरिया मुख्य रूप से दूषित भोजन और पानी से फैलता है और इस पर काबू पाने के लिए स्वच्छता अहम कारक है. इसके अलावा, खाना ठीक से पकाने से भी बैक्टीरिया मर जाते हैं.

Shigella Bacteria Outbreak | क्या था मामला

केरल के कासरगोड़ जिले के एक रेस्तरां में रविवार को शावरमा खाने से 58 लोग बीमार हो गए थे. इससे एक 16 साल की लड़की की जान भी चली गई. मेडिकल कॉलेज में की गई जांच में सामने आया कि भोजन में शिगेला बैक्टीरिया मौजूद था, जिसकी वजह से यह मौत हुई है. जिन लोगों को फूड पॉइजनिंग हुई उनके ब्लड और यूरिन सैंपल की भी जांच की गई थी. इसी के जरिए शिगेला की पु्ष्टि हुई थी. 

Also Read | China Coronavirus News [Hindi] | चीन में फिर लौटा कोरोना, हालात हुए बदतर

क्या है शिगेला वायरस (Shigella Bacteria Outbreak)

शिगेला वायरस की वजह से शिगेलोसिस नाम का एक इंफेक्शन होता है. इसकी वजह से डायरिया, बुखार और पेट दर्द जैसे लक्षण सामने आते हैं. कई बार मरीज के मल में ब्लड भी आता है. दूषित खाना या पानी पीने से इसके संक्रमण का खतरा ज्यादा होता है. जानकार इसे एक संक्रामक बीमारी बताते हैं. ऐसे में शिगेला से संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से भी यह बीमारी हो सकती है.

Credit: Osmosis

क्या है इलाज और बचाव

फिलहाल इसकी कोई वैक्सीन नहीं है. इसके इलाज के लिए एंटी-बायोटिक्स दी जाती हैं. इसके अलावा इस पर काबू पाने के लिए साफ-सफाई बेहद अहम है. डॉक्टर ऐसे मामलों में बार-बार साबुन से हाथ धोने की सलाह देते हैं. आस-पास स्वच्छता बनाए रखना ऐसे मामलों से बचने के लिए बहुत जरूरी है. वहीं खाना ठीक से पकाकर खाना भी इस बैक्टीरिया के खतरे को कम कर सकता है.

Also Read | Heatwave in India [Hindi]: उत्तरी पश्चिम भारत भयंकर गर्मी की चपेट में

शिगेला के लक्षण (Symptoms of Shigella Bacteria)

  • – पेट में दर्द
  • – बुखार
  • – डायरिया
  • – सिर में दर्द
  • – उल्टी
  • – थकान
  • – मल में खून आना

शिगेला से बचना है तो भोजन बनाते वक्त ध्यान रखें ये बातें

  • – खाना पूरी तरह पका हो, यानी अधपका ना हो
  • – खाना साफ माहौल में बना हो, बनाने वाले के हाथ साफ होने चाहिए
  • – साफ पानी का इस्तेमाल किया गया हो
  • – खाना बनने से पहले सब्जियां और बर्तन अच्छी तरह साफ किए गए हों
  • – खाना बासी नहीं होना चाहिए
  • – पनीर और मछली का उपयोग करते वक्त खास सावधानी बरतें क्योकि यहां बेक्टीरिया जल्दी पनपते हैं

क्या शिगेला संक्रमण में मृत्यु आम है?

संक्रमण आमतौर पर तब तक नहीं मरता जब तक कि रोगी की प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर न हो। यदि बैक्टीरिया दवाओं के लिए प्रतिरोधी है तो यह घातक भी हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

1 × 5 =