Chandrashekhar Azad death anniversary 2020, Quotes, Essay (Hindi): चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि पर जानें उनके बारे में सब कुछ

Chandrashekhar-Azad-death-anniversary Quotes-Slogan- News-Essay-hindi
Chandrashekhar-Azad-death-anniversary Quotes-Slogan- News-Essay-hindi

आज हम आप को चंद्र शेखर आज़ाद जी के बारे में विस्तार से बताएंगे। हम निमन्नलिखित बिन्दुओ पर चर्चा करेंगे। Chandrashekhar Azad death anniversary 2020: Quotes, Photos, Images, News, Essay in Hindi

  • Chandrashekhar Azad death anniversary 2020
  • Chandrashekhar Azad Essay in Hindi
  • Chandrashekhar Azad News in Hindi
  • Chandrashekhar Azad Quotes in Hindi

Chandrashekhar Azad News in Hindi

Chandrashekhar Azad News in Hindi, New Delhi: आज देश महान स्वतंत्रता सेनानी चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) का 89वी death anniversary 2020 पर उनकी शहादत को याद कर रहा है. इतिहस के मुताबित 27 फरवरी, 1931 को चंद्रशेखर आजाद जी ने इलाहाबाद के एलफेड पार्क में खुद को गोली मार ली थी. 14 साल की उम्र में पहली और आखिरी बार पकड़े गए तो कोर्ट में अपना नाम आजाद बताया और मरते दम तक अंग्रेजों के हाथ नहीं आए.

Chandrashekhar Azad जी का जन्म

Chandrashekhar Azad (चंद्र शेखर आजाद) का जन्म 23 जुलाई 1906 में चंद्र शेखर तिवारी के मध्यप्रदेश के भवरा गांव यहां हआ था. चंद्र शेखर आजाद जी की मां उनको संस्कृत टीचर बनाना चाहती थी. जिसके बाद के उनके पिता ने उनको बनारस के काशी विध्यापीठ भेज दिया था. Chandrashekhar Azad death anniversary essay quotes hindi

Chandrashekhar Azad Essay in Hindi

महान भारतीय स्वतंत्रता सैनानी चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) का जन्म 23 जुलाई, 1906 को मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले के भाबरा नामक गाँव में हुआ। उनके पिता का नाम पंडित सीताराम तिवारी तथा माता जी का नाम जगदानी देवी था। उनके पिता ईमानदार, साहसी और वचन के पक्के थे। यही गुण चंद्रशेखर जी में भी विद्यमान थे।

यह भी पढ़ें: Subhash Chandra bose 2020 in Hindi: Jayanti, Quotes, Essay, Speech, Photos, Slogan, Death

Chandrashekhar Azad Essay in Hindi: चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Azad) जी 14 वर्ष की आयु में काशी बनारस विद्या पीठ गए और वहां एक संस्कृत पाठशाला में पढ़ाई की।

  • चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) जी 1920-21 के वर्षों में गांधीजी के असहयोग आंदोलन से जुड़े।
  • जिसके चालते वे गिरफ्तार हुए और जज के समक्ष प्रस्तुत किए गए।
  • जहां उन्होंने अपना नाम ‘आजाद‘, पिता का नाम ‘स्वतंत्रता‘ और ‘जेल’ को उनका निवास बताया।
  • उन्हें 15 कोड़ों की सजा दी गई।
  • हर कोड़े के वार के साथ उन्होंने, ‘वन्दे मातरम्‌’ और ‘महात्मा गांधी की जय’ का स्वर बुलंद किया।
  • इसके बाद ही चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) सार्वजनिक रूप से आजाद कहलाए।

चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) जी की मृत्यु (death) कैसे हुई?

चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) मृत्यु (death) को लेकर सभी विद्वानों के अलग अलग तर्क है. कुछ का मन्ना है की उनकी मृत्यु बहुत ही रहस्य में तरीके से उस समय हुई जब वे किसी समेल्लन में ब्रिटिश जा रहे थे तो उनका प्लेन हाइजेक करवा कर उसे दुर्घटना ग्रस्त करवाया गया. जबकि कुछ का मन्ना है की चंद्रशेखर आजाद (Chandrashekhar Aza) मृत्यु (death) 27 फरवरी 1931 में एलफेड पार्क में हुई. जिसके बाद पार्क का नाम चंद्रशेखर आजाद पार्क रखा गया.

Video Credit: UP Tak

Chandrashekhar Azad Quotes & Slogan in Hindi

Chandrashekhar-Azad-quotes-images-hindi-2020-freedom-fighter
Chandrashekhar-Azad-quotes-images-Hindi-2020-freedom-fighter

‘दुश्मन की गोलियों का, हम सामना करेंगे, आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे.’ ~ चंद्रशेखर आजाद

Chandrashekhar Azad Quotes & Slogan in Hindi

‘मेरा नाम आजाद है, व मेरे पिता का नाम स्वतंत्रता और मेरा घर जेल है.’

Chandrashekhar Azad Quotes

“अगर आपके खून में रोष नहीं है, तो ये खून पानी है जो आपकी रगों में बह रहा है.”~Chandrashekhar Azad

Chandrashekhar Azad slogan and quotes

‘मैं ऐसे धर्म को मानता हूं, जो स्वतंत्रता, समानता और भाईचारा सिखाता है.’

Chandrashekhar Azad

“मैं अपने संपूर्ण जीवन की अंतिम सांस तक देश के लिए शत्रु से लड़ता रहूंगा”

Chandrashekhar Azad slogan and quotes

2 thoughts on “Chandrashekhar Azad death anniversary 2020, Quotes, Essay (Hindi): चंद्रशेखर आजाद की पुण्यतिथि पर जानें उनके बारे में सब कुछ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *