Pravasi Bhartiya Divas 2021: क्यों मनाया जाता है प्रवासी भारतीय द‍िवस, क्या है इसका इतिहास?

Pravasi Bhartiya Divas 2021: प्रवासी भारतीय द‍िवस (Pravasi Bhartiya Divas) हर साल 9 जनवरी को मनाया जाता है. प्रवासी भारतीय द‍िवस पहली बार साल 2003 में मनाया गया था. जिसके बाद से यह हर साल मनाया जाने लगा. यह दिवस देश में कई जगहों पर मनाया जाता है. पिछले साल प्रवासी भारतीय द‍िवस वाराणसी में मनाया गया था. वहीं, साल 2018 में यह दिवस सिंगापुर में मनाया गया था.

Pravasi-Bhartiya-Divas-2021-theme-pm-modi-image
Pravasi-Bhartiya-Divas-2021-theme-pm-modi-image

प्रवासी भारतीय द‍िवस के मौके पर हर साल भारत सरकार अमूमन तीन दिवसीय सम्‍मेलन का आयोजन करती है. इस सम्‍मेलन में विदेश में रह रहे उन भारतीयों को आमंत्र‍ित कर सम्‍मान‍ित किया जाता है जिन्‍होंने अपने-अपने क्षेत्र में व‍िशेष उपलब्‍धि हासिल कर भारत का नाम व‍िश्‍व पटल पर गौरवान्‍वित किया हो. 

9 जनवरी को क्यों मनाया जाता है प्रवासी भारतीय द‍िवस

महात्‍मा गांधी 9 जनवरी 1915 को दक्षिण अफ्रीका से स्‍वदेश वापस लौटे थे. महात्‍मा गांधी को सबसे बड़ा प्रवासी माना जाता है जिन्‍होंने न सिर्फ भारत के स्‍वतंत्रता संग्राम का नेतृत्‍व किया बल्‍कि भारतीयों के जीवन को हमेशा के लिए बदल कर रख दिया. यही कारण है कि हर साल 9 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है. प्रवासी भारतीय दिवस मनाने की संकल्पना स्वर्गीय लक्ष्मीमल सिंघवी की थी.

Pravasi Bhartiya Divas History in Hindi

प्रवासी भारतीय दिवस पहली बार साल 2003 में मनाया गया था. यह दिवस साल 2003 से हर साल देश में कई जगहों पर मनाया जाता है. यह भारत सरकार द्वारा साल 2019 में वाराणसी, उत्तर प्रदेश में मनाया गया था. यह दिवस साल 2018 में सिंगापुर में मनाया गया था.

प्रवासी भारतीय देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देने में सबसे आगे

विश्व बैंक की ‘माइग्रेशन एंड रेमिटेंस’ रिपोर्ट के मुताबिक प्रवासी भारतीयअपने देश की अर्थव्यवस्था में योगदान देने में सबसे आगे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक प्रवासी भारतीयों ने साल 2018 में 79 बिलियन डॉलर की रकम भारत भेजी. इस मामले में चीन के प्रवासी दूसरे नंबर पर हैं और उन्होंने साल 2018 में 67 बिलियन डॉलर की रकम चीन भेजी थी.

■ Also Read: WhatsApp New Policy 2021 [Hindi]: WhatsApp की नई शर्तों को मानें, या करें अकाउंट डिलीट?

प्रवासी भारतीय दिवस का उद्देश्‍य

  • अप्रवासी भारतीयों की भारत के प्रति सोच, भावना की अभिव्यक्ति, देशवासियों के साथ सकारात्मक बातचीत के लिए एक मंच उपलब्ध कराना. 
  • विश्व के सभी देशों में अप्रवासी भारतीयों का नेटवर्क बनाना. 
  • युवा पीढ़ी को अप्रवासियों से जोड़ना.
  • विदेशों में रह रहे भारतीय श्रमजीवियों की कठिनाइयां जानना और उन्हें दूर करने की कोश‍िश करना. 
  • भारत के प्रति अनिवासियों को आकर्षित करना. 
  • निवेश के अवसर को बढ़ाना. 

मोदी जी ने Pravasi Bhartiya Divas पर देश को किया संबोधित

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन को संबोधित करेंगे। इससे पहले, शुक्रवार को उन्होंने कहा कि दूसरे देशों में बसे भारतीय मूल के लोगों के साथ बातचीत करने का यह शानदार अवसर होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, ‘कल नौ जनवरी को सुबह 10:30 बजे प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन को संबोधित करूंगा। यह हमारे जीवंत प्रवासी लोगों के साथ बातचीत करने का एक शानदार अवसर है।’

Also Read: GATE 2021 Admit Card: भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- बॉम्बे (IIT-B) ने शुक्रवार को GATE परीक्षा के एडमिट कार्ड किए ज़ारी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *