Haryana Day 2022 [Hindi]: Essay, Poem, Speech, Slogan, Poster | हरियाणा दिवस निबंध और भाषण

Haryana Day 2021 Essay, Poem, Quotes, Speech, Slogan, Poster

Haryana Day Essay, Poem, Speech, Slogan, Poster | हरियाणा दिवस (Haryana Diwas) Nibandh, Kavita, Bhashan, Naare: आज ही के दिन साल 1966 में हरियाणा राज्य की स्थापना हुई थी| हर साल 1 नवंबर को हरियाणा दिवस के रूप में मनाया जाता है| हरियाणा राज्य का जन्म पंजाब में से हुआ है| हरियाणा राज्य में मुखयतर निवासी हिंदी भाषा बोलते है| हरियाणा दिवस पर राज्य के स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षणिक संस्थानों में हरियाणा दिवस पर निबंध, कविता, पोस्टर, चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता रहा है| इस प्रत्योगिता के आयोजन का मुख्य उद्देश्य राज्य के जन्म के इतिहास और उसके गौरव को भावी पढ़ी को बताना है|

हरियाणा दिवस पर निबंध (Haryana Day Essay in Hindi)

हरियाणा दिवस पर प्रदेश में आयोजित प्रतियोगी परीक्षा और स्कूल, कॉलेज की परीक्षाओं में निबंध लिखने के लिए आ जाते है| हरियाणा दिवस पर निबंध लिखने के लिए आपको हरियाणा राज्य का इतिहास पता होना बेहद जरुरी है| आपको यह मालूम होना चाहिए की हरियाणा दिवस कब मनाया जाता है? प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री कौन थे? और वर्तमान में कौन है? हरियाणा दिवस पर निबंध की शुरू प्रदेश की स्थापना और उसकी तारीख के साथ करें और फिर आगे बढे|

हरियाणा भारत के उतर में स्थित एक राज्य है और इसकी राजधानी चण्डीगढ़ है। यह पंजाब से अलग हुआ राज्य है और इसका निर्माण 1 नवंबर, 1966 को हुआ था। हरियाणा की सीमा उतर में हिमाचल से और दक्षिण में राज्यस्थान से लगती है। हरियाणा भारत की राजधानी दिल्ली को तीन तरफ से घेरे हुए हैं। हरियाणा के लोग ज्यादातर खेती करते हैं और यहाँ के जवान ज्यादातर सेना में भरती होते हैं। आमतौर पर हरियाणा में हरियाणवी बोली जाती है लेकिन इसकी राजकीय भाषा हिंदी है। हरियाणा की राजकीय पशु नील गाय है और राजकीय पेड़ पीपल है।

हरियाणा दिवस पर कविता

बचपन का टेम याद आ गया कितने काच्चे काटया करते,
आलस का कोए काम ना था भाजे भाजे हांड्या करते ।

माचिस के ताश बनाया करते कित कित त ठा के ल्याया करते
मोर के चंदे ठान ताई 4 बजे उठ के भाज जाया करते ।

ठा के तख्ती टांग के बस्ता स्कूल मे हम जाया करते,
स्कूल के टेम पे मीह बरस ज्या सारी हाना चाहया करते ।

गा के कविता सुनाके पहड़े पिटन त बच जाया करते,
राह म एक जोहड़ पड़े था उड़े तख्ती पोत ल्याया करते ।

“राजा की रानी रुससे जा माहरी तख्ती सूखे जा” कहके फेर सुखाया करते ,
नयी किताब आते ए हम असपे जिलत चड़ाया करते ।

Haryana Day Quotes in Hindi

यार की खातिर जान भी दयुँ, ना डर मर जाणे का. छोरा मैँ हरियाणे का..

महारे हरयाणा में छोरी साड़ी में और छोरा गाडी में सुन्दर लागे

Haryana Day in hindi: हरियाणा विविध परिदृश्यों का एक उज्ज्वल बहुरूपदर्शक है, जो शानदार पुरातत्व को प्रदर्शित करता है और कला और संस्कृति का जश्न मनाता है। हरियाणा आधुनिक भारत के चेहरे का प्रतिनिधित्व करता है। जो भविष्य की भविष्यवाणी कर रहा है वह अभी तक अपनी शानदार संस्कृति में निहित है।

■ Also Read: HBSE 10th Result Update: तीन लाख से अधिक छात्रों के लिए बोर्ड ने एक्टिव किया 10वीं का रिजल्ट लिंक

यह एक ऐसी भूमि है जहां मेहमानों को भगवान के बराबर माना जाता है। हरियाणा नाम का अर्थ है ईश्वर का वास। यह दो संस्कृत शब्दों हरि ’का मिश्रण है जिसका अर्थ है ईश्वर और अयन’ का अर्थ है घर। आज हरियाणा दक्षिण एशिया के सबसे धनी और आर्थिक रूप से विकसित क्षेत्रों में से एक है।

हरियाणा दिवस पर भाषण

जिसे भारत का ग्रीन लैंड कहा जाता है। वो हरियाणा उत्तर भारतीय राज्य है। राज्य के दक्षिण में राजस्थान और पश्चिम में हिमाचल प्रदेश और उत्तर में पंजाब की सीमा और पूर्व में दिल्ली क्षेत्र है। हरियाणा और पडोसी राज्य पंजाब की भी राजधानी चंडीगढ़ ही है। इस राज्य की स्थापना 1 नवम्बर 1966 को हुई। क्षेत्रफल के हिसाब से इसे भारत का 20 वा सबसे बड़ा राज्य बनाता है।

■ Also Read: Diwali Festival Date India: Diwali Special Gift | Story and Significance | SA News Channel

1 नवम्बर 1966 को पंजाब पुनर्गठन अधिनियम एक्ट (1966) के तहत हरियाणा राज्य का गठन हुआ। 23 अप्रैल 1966 को पंजाब राज्य को विभाजित करने और नये हरियाणा राज्य की सीमाए निर्धारित करने के लिए भारत सरकार ने जे.सी. शाह की अध्यक्षता में शाह कमीशन की स्थापना की।

दलबदल की राजनीति के लिए पहचाना गया हरियाणा

मिसाल के तौर पर आया-राम, गया-राम के रूप में दलबदल की राजनीति के लिए भी यह सूबा पूरे देश में पहचाना गया। इसका जनक पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी भजनलाल को माना जाता है और ठीक उसी तरह सख्त प्रशासन के लिए स्व. बंसीलाल और चौधरी ओम प्रकाश चौटाला के नाम प्रमुखता से लिए जाते हैं।

खेलों में अलग पहचान

22 जिलों वाले इस राज्य ने खेलों में अलग पहचान बनाई है। कुश्ती, मुक्केबाजी, हॉकी और निशानीबाजी जैसे खेलों में यहां के खिलाड़ियों का कब्जा है। योगेश्वर दत्त, सुशील कुमार, संदीप सिंह, बबीता फोगाट जैसे दिग्गज खिलाड़ी इंटरनैशनल लेवल पर अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे हैं। भारत की पहली महिला अंतरिक्षयात्री कल्पना चावला भी हरियाणा की धरती पर ही पैदा हुई थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

18 + 5 =