सभी आत्माओं के जनक हैं पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब

kabir Saheb in Hindi: जैसा कि हम जानते हैं कि कबीर साहेब 600 साल पहले भक्ति युग में एक बुनकर (जुलाहे) की भूमिका निभाते हुए हमारे साथ रहे। लेकिन वह कौन थे? क्या कबीर जी सूफी संत है या कोई और? क्या कबीर जी भगवान हैं? इस लेख में हम कुछ सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे जैसे- कबीर कौन हैं? क्या वह एक कवि है या कोई दिव्य पुरुष? कबीर साहेब पृथ्वी पर कब अवतरित (प्रकट) हुए? वो रहस्य क्या है? जिसे लिपिबद्ध किया गया, लेकिन वह भक्तों के लिए अज्ञात रहा । कबीर जी कहां रहते थे? और कबीर साहेब ने भगवान के बारे में क्या बताया?

Supreme-God-Kabir-Sahib-The-Father-of-All-Souls-in-hindi
Credit: jagatgururampalji.org

kabir Saheb in Hindi: अब हम निम्नलिखित पर चर्चा शुरू करते हैं

Table of Contents

  •  परमेश्वर कबीर की जीवनी
  •  परमेश्वर कबीर की उपस्थिति
  •  परमेश्वर कबीर का अवतार
  •  कबीर जी ईश्वर है, इस बात का प्रमाण सभी पवित्र पुस्तकों में हैं
  •  कबीर परमेश्वर के गुरु कौन थे?
  •  अन्य संत कबीर परमेश्वर के साक्षी
  •  पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब के चमत्कार
  • परमेश्वर कबीर की मृत्यु – एक रहस्य
  •  पूर्ण तत्वदर्शी संत की पहचान 
  • कलयुग में भगवान कबीर का अवतार

कबीर परमात्मा जी की जीवनी (kabir Saheb Bio in Hindi)

सामान्यतः कबीर परमात्मा को जनता “कबीर दास”, वाराणसी  के जुलाहा ( बनारस या काशी, भारत) के रूप में जानती है। विडंबना यह है पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब स्वयं इस पृथ्वी पर आए थे, लेकिन यह संसार उन्हें एक दास के रूप में जानता है। उनके रहस्य को सिर्फ वही जान पाएं जिन पर उन्होंने अपनी दया दृष्टि रखी और अपनी स्थिति से अवगत कराया। जैसे गुरु नानक देव जी (तलवंडी, पंजाब ) धर्मदास जी (बांधवगढ़ मध्य प्रदेश) ,दादू जी (गुजरात)।

वेद भी पूर्ण परमात्मा के इस गुण के प्रमाण देते हैं

ऋग्वेद मंडल 10 सूक्त  4 के मंत्र 6 में इस बात का प्रमाण है। इस मंत्र में पूर्ण परमात्मा को एक तस्कर के रूप में संबोधित किया गया है। गुरु नानक देव जी ने उन्हें “ठग”, धोखेबाज भी कहा है (रग सिरी मेहला पहला, एसजीजीएस पृष्ठ 24)।

kabir Saheb in Hindi: परमेश्वर कबीर की उपस्थिति

कबीर साहिब भक्ति युग में यानि हमारे इतिहास के मध्यकाल में आए। साहित्य जगत के लिए उनकी अनूठी और बहुमूल्य कबीर वाणी / कविता अमूल्य खजाना है। कबीर वाणी, दोहे कविताएं कबीर अमृतवाणी के नाम से प्रसिद्ध है। कबीर जी जो भी सिखाना चाहते थे, कबीर जी ने इन कविताओं के माध्यम से हमें सिखाने की कोशिश की है।

इन कविताओं में कई रहस्य छुपे हुए हैं। कबीर जी की कविताएं हम बचपन से सुनते आ रहे हैं फिर क्या कोई आश्चर्य कर सकता है, कि कबीर कौन है ? यह संत जिसे पूरा विश्व  जुलाहा/बुनकर  के रूप में जानता है । वास्तव में वही पूर्ण परमात्मा है, पर जो कि मानव रूप में आया और अपनी प्यारी आत्माओं को आध्यात्मिक ज्ञान प्रदान किया। कबीर भगवान है इस बात का प्रमाण हमारे सभी धर्मों के शास्त्र देते हैं। जैसे पवित्र कुरान शरीफ, पवित्र बाइबल, पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब आदि में प्रमाण है।

आइए अब हम आगे की ओर बढ़ते हैं और जानते हैं कि जब कबीर साहेब 600 वर्ष पहले इस नश्वर  संसार में अवतरित हुए थे, उस समय उनके माता पिता कौन थे ? और पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब कहां अवतरित हुए थे?

कबीर साहेब जी के पिता व माता कौन थे?

जैसा कि वेदों में कहा गया है, पूर्ण परमात्मा कबीर कभी मां के गर्भ से पैदा नहीं होते हैं।  वह स्वयंभू है।  वह परमात्मा एक निःसंतान दंपत्ति को मिलते है , जो उन्हें बाल-रूप में पाल-पोस कर उनकी सेवा करते हैं। 600 वर्ष पूर्व जब कबीर जी का अवतरण हुआ तो निःसंतान दंपत्ति नीरू और नीमा (जो कि बुनकर थे।) कबीर भगवान को लहरताला तालाब से अपने घर ले आए और बाल रूप में उनकी सेवा की।  कबीर साहेब ने नीरू और नीमा को अपने माता-पिता के रूप में चुना था।  यह परमेश्वर कबीर जी की दिव्य लीला थी।

आइए एक गहन विश्लेषण करें लेकिन पहले यह जान लेते हैं कि नीरू और नीमा कौन हैं? कलयुग में कबीर जी के पिता नीरू और माता नीमा दोनों ही शुरू में ब्राह्मण थे। जिन्हें उस समय दुष्ट और  ईर्ष्यालु ब्राह्मणों की साजिश के परिणाम स्वरूप  मुस्लिम बना दिया गया। जब वो ब्राह्मण थे तब नीरू को गौरीशंकर और नीमा को सरस्वती के नाम से जाना जाता था।

kabir Saheb in Hindi: वे भगवान शिव के उपासक थे। निस्वार्थ भाव से भक्तों को शिव पुराण से भगवान शिव की महिमा सुनाते थे। वे इतने नेक आत्मा थे कि अगर कोई उन्हें कुछ दान देता था, तो उसमें से जो कुछ भी उनके जीवित रहने के लिए पर्याप्त होता था उतना रखते थे और बाकी का भंडारा कर देते थे अन्य स्वार्थी ब्राह्मण गौरीशंकर और सरस्वती से ईर्ष्या करते थे, क्योंकि गौरी शंकर निस्वार्थ भाव से कथा करता था। पैसों के लालच में भक्तों को गुमराह नहीं करता था। इसके परिणाम स्वरूप प्रशंसा का पात्र बन गया था। दूसरी ओर मुसलमानों को पता चला कि सभी ब्राह्मण नीरू-नीमा से ईर्ष्या करते हैं । उन्होंने इस बात का फायदा उठाया और जबरदस्ती उन्हे मुसलमान बना दिया। मुसलमानों ने अपना जल उनके सारे घर में छिड़क दिया और उनके मुंह में डाल दिया। इस पर हिंदू ब्राह्मणों ने कहा कि अब वे मुसलमान हो गए हैं । आज के बाद से उनका हम से कोई संबंध नहीं है।

बेचारे गौरी शंकर और सरस्वती असहाय हो गए।  मुसलमानों ने पुरुष का नाम नीरू और महिला का नाम नीमा रखा।  पहले जो भी दान मिलता था, वे अपनी रोजी-रोटी चला रहे थे, जो भी पैसा बचता था, वे बचे हुए पैसे से धार्मिक भंडारा करते थे। अब तो चंदा भी आना बंद हो गया। उन्होंने सोचा अब हम क्या काम करें?  उन्होंने एक हाथ की चक्की स्थापित की और बुनकरों के रूप में काम करना शुरू कर दिया। उस समय भी वे अपनी जरूरतें पूरी करने के बाद बचा हुआ पैसा भंडारा में खर्च करते थे।  हिंदू ब्राह्मणों ने नीरू-नीमा को गंगा में स्नान करने से मना कर दिया था। वे कहते थे कि अब तुम मुसलमान हो गए हो।

kabir Saheb in Hindi: परमेश्वर कबीर का अवतार

कलयुग में कबीर साहेब 1398 (विक्रम संवत 1455) में पहले महीने की पूर्णिमा में काशी के लहरतारा तालाब में कमल के पुष्प पर अवतरित हुए। जिस तालाब में गंगा का जल आता था। उस समय अष्टानंद नामक ऋषि जो स्वामी रामानंद जी ब्राह्मण के शिष्ये थे ,वहां पर ध्यान कर रहे थे। अष्टानंद जी की चरम दृष्टि इतने प्रकाश को सहन नहीं कर पाई और उन्होंने आंखें बंद कर ली।

  • कमल के पुष्प पर कबीर परमेश्वर का अवतरित होना
  • परमेश्वर कबीर साहेब का पालन-पोषण

कमल के फूल पर कबीर परमेश्वर का अवतरित होना

काशी नगर के लहरतारा तालाब में गंगा (नदी) की लहरों का जल आ जाता था। जिससे यह लहरतारा तालाब शुद्ध जल से भरा रहता था और उसमें कमल के फूल उगे रहते थे। सन् 1398 (विक्रमी संवत 1455)  में ज्येष्ठ मास(मई-जून) की शुक्ल पूर्णिमा को ब्रह्म मुहूर्त( सूर्योदय से लगभग 1½ घंटे पूर्व) में  पूर्ण परमेश्वर कबीर (कविर्देव) जी अपने मूल स्थान सतलोक से शिशु रूप बना कर काशी शहर के लहरतारा तालाब में कमल के पुष्प पर  सशरीर प्रकट हुए।

Credit: SA News Channel

प्रतिदिन की तरह ब्रह्म मुहूर्त में नीरू नीमा भी उसी तालाब में स्नान करने जा रहे थे। प्रकाश का एक बहुत उज्ज्वल द्रव्यमान (परमेश्वर कबीर जी बहुत तेजोमय शरीर वाले बच्चे के रूप में आए थे, दूरी के कारण, केवल प्रकाश के द्रव्यमान के रूप में प्रकट हुए) ऊपर से (सत्यलोक से) आया और कमल के फूल में समा गया।  जिससे पूरा लहरतारा तालाब जगमगाने लगा और फिर एक कोने में जाकर गायब हो गया। रामानंद जी के शिष्यों में से एक ऋषि अष्टानंद जी इस लीला को अपनी आंखों से देख रहे थे।

अष्टानंद जी भी प्रतिदिन स्नान करने एकांत स्थान पर जाया करते थे। गुरुदेव ने जो मन्त्र दिया था उसका जाप वहाँ बैठकर किया करते थे और प्रकृति का आनन्द लिया करते थे। स्वामी अष्टानंद जी ने जब देखा कि ऐसा तेज प्रकाश कि आंखें भी चकाचौंध हो गईं, तो ऋषि जी ने सोचा कि ‘यह मेरी भक्ति की कोई सिद्धि है या छल’। यह सोचकर कारण पूछने के लिए वे अपने गुरुदेव के पास गए।

kabir Saheb in Hindi: परमेश्वर कबीर साहेब का लालन-पालन

थोड़ी चर्चा के बाद नीरू नीमा शिशु को अपने घर ले आए। कबीर साहेब का सुंदर व तेजोमय चेहरा देखकर काशी में हर कोई आश्चर्यचकित रह गया। इतना आकर्षक बच्चा पहले किसी ने नहीं देखा था। काशी के लोगों ने कहा हमने इतना सुंदर और इतना तेजोमय बच्चा पहले कभी नहीं देखा। काशी के आए स्त्री-पुरुष बालक को देखकर कहने लगे कि यह तो कोई देवता प्रतीत होता है। किसी ने कहा कि यह तो ब्रह्मा-विष्णु-महेश में से कोई एक है। ब्रह्मा विष्णु महेश ने कहा कि यह कोई शक्ति है,जो ऊपर के लोकों से आई है। इतने सुंदर व तेजोमय बच्चे को देखकर काशी के लोग नीरू नीमा से यह पूछना ही भूल गए; कि तुम बच्चे को कहाँ से लाए हो?

लगभग 21 दिन तक कबीर साहेब (लीलामय शिशु रूप में) ने कुछ भी नहीं खाया-पिया, जिस कारण नीरू और नीमा चिंतित हो गए। फिर उन्होंने भगवान शिव से उनकी मदद करने की प्रार्थना की क्योंकि वे शिव के उपासक (भक्त) थे। ऋषि का रूप धारण कर शिव जी झोपड़ी के बाहर आकर प्रकट हुए। ऋषि रूप में शिव जी ने नीमा से पूछा माई क्यों रो रही हो? तब नीमा ने ऋषि रूप में आए शिव जी को अपनी दुर्दशा सुनाई। इस पर भगवान कबीर जी ने भगवान शिव से संवाद किया और उनसे कहा कि नीरू से कहो कि वह कुँवारी गाय लाये।

kabir Saheb in Hindi: तब भगवान शिव ने नीरू से एक कुँवारी गाय लाने को कहा।  नीरू जाकर एक कुँवारी गाय ले आया। तब भगवान कबीर के आदेशानुसार शिव जी ने गाय को थपथपाया फिर गाय दूध देने लगी।  उस दूध को कबीर साहेब ने पी लिया था।  इस दिव्य लीला की गवाही वेदों में वर्णित है (ऋग्वेद मण्डल 9 सूक्त 1मन्त्र 9)। जब काजीयों को पता चला कि नीरू नीमा के पास एक बालक आया है, तो वे उनके घर सुन्नत करने के लिए आए। तब कबीर परमेश्वर ने उन्हें बहुत लीलाएं दिखाई जिन्हे देख कर वे डरकर भाग गए कबीर परमेश्वर जी द्वारा किए गए इस दिव्य लीला का वर्णन  पवित्र कबीर सागर में है। आगे बढ़ते हुए, हम पवित्र शास्त्रों से प्रमाण देते हैं कि कबीर ही भगवान हैं। 

कबीर जी ईश्वर है, इस बात का प्रमाण सभी पवित्र पुस्तकों में हैं

भगवान कबीर, स्वयं उनके दूत (संदेशवाहक) के रूप में आते हैं और स्वयं अपना तत्व ज्ञान (सच्चा तत्वज्ञान) देते हैं। इस बात का समर्थन भी पवित्र शास्त्रों द्वारा किया जाता है, जैसे कि पवित्र वेद, पवित्र कुरान शरीफ, पवित्र बाइबिल, पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब।

Credit: Jagatgurusantrampalji.org
  • पवित्र वेदों में कबीर परमेश्वर का प्रमाण
  • पवित्र कुरान शरीफ में भगवान कबीर का प्रमाण
  • पवित्र बाइबिल में परमेश्वर कबीर का प्रमाण है
  • पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब में ईश्वर कबीर का प्रमाण

kabir Saheb in Hindi: पवित्र वेदों में परमेश्वर कबीर का प्रमाण

वेदों में यह स्पष्ट रूप से दर्शाया गया है कि कविर्देव (भगवान कबीर) हर युग में आते हैं, वह मां के गर्भ से जन्म नहीं लेते हैं और उनका बचपन का पालन-पोषण गायों द्वारा किया जाता है।  वह अपनी प्रिय आत्माओं को कविता/कबीर वाणी के रूप में तत्वज्ञान सिखाने के लिए कवि के रूप में आता है।

पवित्र वेदों में कबीर परमात्मा का प्रमाण

  • यजुर्वेद अध्याय 29 मंत्र 25
  • ऋग्वेद, मंडल 9, सूक्त 96, मंत्र 17
  •  ऋग्वेद मण्डल 9 सूक्त 96 मंत्र 18
  • ऋग्वेद मण्डल 9 सूक्त 1 मंत्र 9

यजुर्वेद अध्याय 29 मंत्र 25

 यजुर्वेद में उल्लेख है कि कबीर परमेश्वर स्वयं इस पृथ्वी पर अपना ज्ञान फैलाने के लिए प्रकट होते हैं।  उनका नाम वेदों में “कवीर देव” के रूप में वर्णित है जो “कबीर” के समान है।

समिद्धः-अद्य-मनुषः-दुरोणे-देवः-देवन-यज-असि-जात-वेद:-आ-च-वह-मित्राम्हः-चिकित्वान्-त्वम्-दुततः- कविर्-असि-प्रचेताः।  25 |

भावार्थ: जिस समय भक्त समाज को शास्त्र विधि त्यागकर मन माना आचरण कराया जा रहा होता है उस समय कबीर देव तत्वज्ञान को प्रकट करते हैं।

ऋग्वेद, मंडल 9 सूक्त 96 मंत्र 17

  • ऋग्वेद, मंडल ९ सूक्त ९६ मंत्र १७

 यह उल्लेख किया गया है कि पूर्ण परमात्मा एक शिशु के रूप में इस पृथ्वी पर प्रकट होते हैं और फिर अपने अनुयायियों को (कवीरगीरभिः) कबीर वाणी (भाषण) के माध्यम से अपना तत्वज्ञान देते हैं।

शिशुम् जज्ञानम् हर्य तम् मृजन्ति शुम्भन्ति वह्निमरूतः गणेन।

कविर्गीर्भि काव्येना कविर् सन्त् सोमः पवित्राम् अत्येति रेभन्।।17।।

भावार्थ – वेद बोलने वाला ब्रह्म कह रहा है कि विलक्षण मनुष्य के बच्चे के रूप में प्रकट होकर पूर्ण परमात्मा कविर्देव अपने वास्तविक ज्ञानको अपनी कविर्गिभिः अर्थात् कबीर बाणी द्वारा निर्मल ज्ञान अपने हंसात्माओं अर्थात् पुण्यात्मा अनुयाइयों को कवि रूप में कविताओं, लोकोक्तियों के द्वारा सम्बोधन करके अर्थात् उच्चारण करके वर्णन करता है। वह स्वयं सतपुरुष कबीर ही होता है। इस प्रकार , उपरोक्त प्रमाण सिद्ध करते हैं कि कबीर परमेश्वर ने अपने प्रवचन के माध्यम से सच्चा अध्यात्मिक ज्ञान दिया और एक कवि के रूप में विख्यात हुए।

ऋग्वेद, मंडल 9 सूक्त 96 मंत्र 18

परमात्मा कबीर जी ने अपने जीवन काल के दौरान कई  प्रवचन दिए  जिनको उनके शिष्य “धर्मदास जी”  द्वारा संकलित किया गया था। ये हमारे लिए कबीर सागर और कबीर बीजक के रूप में उपलब्ध है। यह कबीर परमेश्वर के प्रवचनों का एक संग्रह है। सामान्य जनता कबीर परमेश्वर को एक कवि के रूप में जानती थी और आज भी उसी तरह से जानती हैं जबकि वह स्वयं पूर्ण परमात्मा थे। ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 96 मंत्र 18 में भी वेदों में पूर्ण परमात्मा के इस गुण का उल्लेख किया गया है।

ऋषिमना य ऋषिकृत् स्वर्षाः सहòाणीथः पदवीः कवीनाम्।

तृतीयम् धाम महिषः सिषा सन्त् सोमः विराजमानु राजति स्टुप्।।18।।

भावार्थ – मंत्र 17 में कहा है कि कविर्देव शिशु रूप धारण कर लेता है। लीला करता हुआ बड़ा होता है। कविताओं द्वारा तत्वज्ञान वर्णन करने के कारण कवि की पदवी प्राप्त करता है अर्थात् उसे कवि कहने लग जाते हैं, वास्तव में वह पूर्ण परमात्मा कविर् (कबीर प्रभु) ही है। उसके द्वारा रची अमृतवाणी कबीर वाणी (कविर्गिरः अर्थात् कविर्वाणी) कही जाती है, जो भक्तों के लिए स्वर्ग तुल्य सुखदाई होती है। वही परमात्मा तीसरे मुक्ति धाम अर्थात् सतलोक की स्थापना करके एक गुबंद अर्थात् गुम्बज में सिंहासन पर तेजोमय मानव सदृश शरीर में आकार में विराजमान है।

ऋग्वेद मण्डल 9 सूक्त 1 मंत्र 9

 कबीर परमेश्वर का पालन-पोषण कुँवारी गायों द्वारा किया जाता है। इसका प्रमाण वेद देते हैं।

  •  ऋग्वेद मंडल 9 सूक्त 1 मंत्र 9

 इयमं अधन्या उत श्रीनति धननवः शिशुम्।  सोममिंद्राय पातवे।।9।।

भावार्थ – पूर्ण परमात्मा अमर पुरुष जब लीला करता हुआ बालक रूप धारण करके स्वयं प्रकट होता है उस समय कुँवारी गाय अपने आप दूध देती है जिससे उस पूर्ण प्रभु की परवरिश होती है।

भावार्थ : जब परम सनातन ईश्वर कोई दैवीय कार्य करते हुए, बाल रूप धारण करके स्वयं प्रकट होते हैं, उस समय एक कुँवारी गाय स्वयं दूध देती है जिससे सर्वोच्च / पूर्ण परमात्मा का पालन-पोषण होता है।

 ऋग्वेद मंडल 9, सूक्त 94, मंत्र 1 में आगे उल्लेख किया गया है कि, भगवान कवि की तरह व्यवहार करते हैं और भटकते हैं और अपने ज्ञान को दोहों, कविताओं आदि के माध्यम से फैलाते हैं।

 कबीर परमात्मा के कई अन्य गुणों का उल्लेख किया गया है

  •  ऋग्वेद, मंडल 9, सूक्त 96, मंत्र 19, 20
  •  ऋग्वेद, मंडल 10, सूक्त 90, मंत्र 3,4,5,15,16
  •  यजुर्वेद अध्याय 19, मंत्र 26, 30
  •  यजुर्वेद अध्याय 29, मंत्र 25
  •  सामवेद सांख्य संख्या 359, अध्याय 4 खंड 25, श्लोक 8
  •  सामवेद सांख्य संख्या 1400, अध्याय 12, खंड 3, श्लोक 8
  •  अथर्ववेद कांड संख्या 4, अनुवाक संख्या 1, मंत्र 1,2,3,4,5,6,7
  •  विस्तारपूर्वक जानने के लिए लिंक पर जाएँ । पवित्र शास्त्र भी कबीर परमेश्वर के साक्षी हैं।

पवित्र कुरान शरीफ में भगवान/अल्लाह कबीर का प्रमाण

पवित्र कुरान शरीफ,सूरत फुरकानी 25 आयत नम्बर 52,58,59 में हजरत मोहम्मद जी का खुदा कह रहा है कि हे पैगंबर आप काफीरों (जो एक प्रभु की भक्ति त्याग कर अन्य देवी देवताओं का मूर्ति आदि की पूजा करते हैं) का कहा मत मानना क्योंकि वह लोग कबीर को पूर्ण परमात्मा नहीं मानते हैं। आप  कुरान के ज्ञान के आधार पर अटल रहना कि कबीर ही पूर्ण प्रभु है तथा कबीर अल्लाह के लिए संघर्ष करना (लड़ना मत) अर्थात अडिग रहना।

Credit: Jagatgururampalji.org

कबीर वही प्रभु है जिसने जमीन तथा आसमान के बीच में जो भी विद्यमान हैं सब सृष्टि की रचना छ: दिनों में की तथा सातवें दिन ऊपर अपने सतलोक में सिंहासन पर विराजमान हो गया उसके विषय में जानकारी किसी तत्वदर्शी संत/बाखबर से पूछो ।

पवित्र फ़ज़ल-ए-अमल, यानी फ़ज़ैल-ए-ज़िक्र, आयत 1 में भी एक प्रमाण है कि कबीर अल्लाह है

 कुरान शरीफ (इस्लाम) में सर्वशक्तिमान अमर ईश्वर (अल्लाह कबीर) के बारे में भी पढ़ें

kabir Saheb in Hindi: पवित्र बाइबल में पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब का प्रमाण

छटवां दिन:- प्राणी और मनुष्य:

अन्य प्राणियों के रचना करके 26. फिर परमेश्वर ने कहा हम मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार अपनी समानता में बनाएं तो सर्व प्राणी को काबू रखेगा।

27. परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, नर और नारी करके मनुष्य की सृष्टि रचना की।

 29. प्रभु ने मनुष्यों के खाने के लिए जितने बीज वाले छोटे पेड़ तथा जितने  पेड़ों में बीज वाले फल होते हैं वे भोजन के लिए प्रदान किए हैं, (मांस खाना नहीं कहा है।)

 सातवां दिन:-विश्राम का दिन परमेश्वर ने छ: दिनों में सृष्टि की उत्पत्ति की तथा सातवें दिन विश्राम किया।

रूढ़िवादी यहूदी बाइबिल (OJB), Iyov 36:5- देखिए, ईआई कबीर है, और किसी को तुच्छ नहीं जानता;  वह कोच लेव (समझ की ताकत) में कबीर हैं।

 यह भी पढ़ें- ईसाई धर्म में सर्वश्रेष्ठ परमात्मा

पवित्र गुरु ग्रंथ साहिब में परमेश्वर कबीर का प्रमाण 

श्री गुरु ग्रंथ साहिब पृष्ठ नंबर 24 राग सिरी महला 1,  में प्रमाण है कि जो काशी में धाणक (जुलाहा )है यही करतार कुल का सृजनहार है। अति आधीन होकर नानक साहिब जी कह रहे हैं कि मैं सच कह रहा हूँ कि यह वह धाणक अर्थात कबीर जुलाहा ही  पूर्ण ब्रह्म (सत्पुरुष) है।

गहन विस्तार के लिए पवित्र ग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब (सिख धर्म) में सर्वोच्च भगवान के दर्शन करें

कबीर परमात्मा के गुरु कौन थे?

 कबीर साहिब ने अपने उपदेशों में बताया है कि मोक्ष मार्ग मैं गुरु बहुत जरुरी होता है। इसलिए परमात्मा कबीर ने स्वामी रामानंद जी को अपने धार्मिक गुरु के रूप में प्राप्त किया ब्राह्मण स्वामी रामानंद जी एक विद्वान व्यक्ति थे।  वेदों और श्रीमद् गीता के अच्छे जानकार माने जाते थे।

स्वामी रामानंद जी ने पूरी काशी में 52 दरबार लगा रखे थे । शास्त्रों के अनुकूल भक्ति साधना के लिए कहते थे और ओम नाम का जाप किया करते थे।

  • स्वामी रामानंद जी के आश्रम में कबीर परमात्मा ने दो रूप धारण किए
  •  स्वामी रामानंद जी के मन की बात बताना
  •  रामानंद जी की सतलोक यात्रा

kabir Saheb in Hindi: स्वामी रामानंद जी की आयु 104 वर्ष थी उस समय कबीर देव जी की लीलामय आयु 5 वर्ष थी। स्वामी रामानंद जी महाराज का आश्रम गंगा दरिया से आधा किलोमीटर दूर स्थित था। स्वामी रामानंद जी प्रतिदिन सूर्योदय से पूर्व गंगा नदी के तट पर बने पंचगंगा घाट पर स्नान करने जाते थे। 5 वर्षीय कबीर देव ने ढाई वर्ष के बच्चे का रूप धारण किया तथा पंचगंगा घाट की सीढी़यों में लेट गए। स्वामी रामानंद जी प्रतिदिन की भांति स्नान करने गंगा दरिया के घाट पर गए। अंधेरा होने के कारण स्वामी रामानंद जी बालक कबीर को नहीं देख सके। स्वामी रामानंद जी के पैर की खड़ाऊ (लकड़ी का जूता) सीढ़ीयों में लेटे बालक कबीर देव के सिर में लगी।

बालक कबीर देव लीला करते हुए रोने लगे । स्वामी रामानंद जी को ज्ञान हुआ कि उनका पैर किसी बच्चे को लग गया है जिस कारण से बच्चा पीड़ा से रोने लगा है। स्वामी रामानंद जी बालक को उठाने और चुप कराने के लिए शीघ्रता से झुके तो उनके गले की माला (एक रुद्राक्ष की कंठी माला) बालक कबीर देव के गले में डल गई । जिसे स्वामी रामानंद जी नहीं देख सके। स्वामी रामानंद जी ने बच्चे को प्यार से का बेटा राम राम बोल राम राम से सब कष्ट दूर हो जाते हैं। ऐसा कहकर बच्चे के सिर को सहलाया और आशीर्वाद देते हुए सिर पर हाथ रखा। बालक कबीर परमेश्वर अपना उद्देश्य पूरा होने पर चुप होकर बैठ गए और फिर चल पड़े। स्वामी रामानंद जी ने विचार किया कि वह बच्चा रात्रि में यहां आकर सो गया होगा। इसे अपने आश्रम में ले जाऊंगा वहां से इसे इनके घर भिजवा दूंगा,ऐसा विचार करके स्नान करने लगे। परमेश्वर कबीर जी वहां से अंतर्ध्यान हुए तथा अपनी झोपड़ी में सो गए। रामानंद जी ने सोचा बच्चा उठ कर चला गया होगा,अब उसे कहां ढूंढू ?

महत्वपूर्ण:-  इस प्रकार कबीर जी ने 5 वर्ष की आयु में स्वामी रामानंद जी को गुरु धारण किया।  यह लीला केवल दुनिया के लोगों के लिए थी। (वास्तव में कबीर जी स्वामी रामानंद जी के गुरु थे।)

स्वामी रामानंद जी के आश्रम में कबीर परमात्मा ने दो रूप धारण किया

kabir Saheb in Hindi: एक दिन स्वामी रामानंद जी का एक शिष्य (विवेकानंद जी) कहीं प्रवचन दे रहा था। कबीर साहेब वहाँ गए। ऋषि विवेकानन्द जी विष्णु पुराण से कथा सुना रहे थे। कह रहे थे, भगवान विष्णु सर्वेश्वर हैं,अविनाशी, अजन्मा हैं। सर्व सृष्टि रचनहार तथा पालनहार हैं। इनके कोई जन्मदाता माता-पिता नहीं है। ये स्वयंभू हैं। 5 वर्षीय बालक कबीर देव जी भी उस ऋषि विवेकानन्द जी का प्रवचन सुन रहे थे तथा सैंकड़ों की संख्या में अन्य श्रोता गण भी उपस्थित थे। ऋषि विवेकानन्द जी ने अपने प्रवचनों को विराम दिया तथा उपस्थित श्रोताओं से कहा यदि किसी को कोई प्रश्न करना है तो वह निःसंकोच अपनी शंका का समाधान करा सकता है। बालक कबीर परमेश्वर खड़े हुए तथा ऋषि विवेकानन्द जी से करबद्ध होकर प्रार्थना कि हे ऋषि जी! आपने भगवान विष्णु जी के विषय में बताया कि ये अजन्मा हैं, अविनाशी है। इनके कोई माता-पिता नहीं हैं। एक दिन एक ब्राह्मण श्री शिव पुराण के रूद्र संहिता अध्याय 6 एवं 7 को पढ़ कर श्रोताओं को सुना रहे थे, यह दास भी उस सत्संग में उपस्थित था। उसमें वह महापुरुष बता रहे थे कि विष्णु और ब्रह्मा की उत्पत्ति शिव भगवान से हुई है।

कबीर परमेश्वर जी के मुख कमल से उपरोक्त पुराणों में लिखा उल्लेख सुनकर ऋषि विवेकानन्द अति क्रोधित हो गया तथा उपस्थित श्रोताओं से बोले यह बालक झूठ बोल रहा है। पुराणों में ऐसा नहीं लिखा है। उपस्थित श्रोताओं ने भी सहमति व्यक्त की कि हे ऋषि जी आप सत्य कह रहे हो यह बालक क्या जाने पुराणों के गूढ़ रहस्य को? आप विद्वान पुरूष परम विवेकशील हो। आप इस बच्चे की बातों पर ध्यान न दो। ऋषि विवेकानन्द जी ने पुराणों को उसी समय देखा जिसमें सर्व विवरण विद्यमान था। परन्तु मान हानि के भय से अपने झूठे व्यक्तव्य पर ही दृढ़ रहते हुए कहा हे बालक तेरा क्या नाम है? तू किस जाति में जन्मा है? तूने तिलक लगाया है। क्या तूने कोई गुरु धारण किया है? शीघ्र बताइए।  

कबीर परमेश्वर जी के बोलने से पहले ही श्रोता बोले हे ऋषि जी! इसका नाम कबीर है,

यह नीरू जुलाहे का पुत्र है। कबीर जी बोले ऋषि जी मेरा यही परिचय है जो श्रोताओं ने आपको

बताया। मैंने गुरु धारण कर रखा है। ऋषि विवेकानन्द जी ने पूछा क्या नाम है तेरे गुरुदेव का?

kabir Saheb in Hindi: परमेश्वर कबीर जी ने कहा मेरे पूज्य गुरुदेव वही हैं जो आपके गुरुदेव हैं। उनका नाम है पंडित रामानन्द स्वामी। जुलाहे के बालक कबीर परमेश्वर जी के मुख कमल से स्वामी रामानन्द जी को अपना गुरु जी बताने से ऋषि विवेकानन्द जी ने ज्ञान चर्चा का विषय बदल कर परमेश्वर कबीर जी को बहुत बुरा-भला कहा तथा श्रोताओं को भड़काने व वास्तविक विषय भूलाने के उद्देश्य से कहा देखो रे भाईयो! यह कितना झूठा बालक है। यह मेरे पूज्य गुरुदेव श्री 1008 स्वामी रामानन्द जी को अपना गुरु जी कह रहा है। मेरे गुरु जी तो इन अछूतों के दर्शन भी नहीं करते। शुद्रों का अंग भी नहीं छूते। अभी जाता हूँ गुरु जी को बताता हूँ। भाई श्रोताओ!

Also Read: Hanuman Jayanti in Hindi: हनुमान जयंती पर जानिए कौन थे हनुमान जी के वास्तविक गुरु?

आप सर्व कल स्वामी जी के आश्रम पर आना सुबह-सुबह। इस झूठे की कितनी पिटाई स्वामी रामानन्द जी करेगें? इसने हमारे गुरुदेव का नाम मिट्टी में मिलाया है। मैं अभी गुरुदेव के पास जाऊँगा और उन्हें तुम्हारी पूरी कहानी सुनाऊँगा। आप निम्न जाति के बच्चे, हमारे गुरु जी का अपमान करते हैं।”  कविराग्नि ने कहा, “ठीक है, गुरु जी को बताओ।”  उस ऋषि जी ने जाकर श्री रामानंद जी से कहा, “गुरुदेव, एक नीची जाति का लड़का है। उसने हमें बदनाम किया है। वह कहते हैं कि स्वामी रामानंद जी मेरे गुरुदेव हैं।  “हे भगवान!  हमारे लिए बाहर जाना मुश्किल हो गया है।”  स्वामी रामानन्द जी ने कहा, “कल सुबह उन्हें बुलाओ।  देखो, मैं कल तुम्हारे सामने उसे कितना दण्ड दूँगा।”

अन्य संत कबीर परमेश्वर के साक्षी

पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब ने कई महान आत्माओं को दर्शन देकर उन्हें सृष्टि रचना के बारे में बताया और तत्व ज्ञान सुनाकर, अपने निज स्थान सतलोक में भी लेकर गए।

क्या जानते हैं कि वे महान आत्माएं/ संत कौन है? जिन्हें पूर्ण परमात्मा कबीर जी ने दर्शन दिए।

  •  आदरणीय धर्मदास जी
  •  आदरणीय गरीबदास जी महाराज
  •  आदरणीय गुरु नानक देव जी
  •  आदरणीय संत दादू दास जी
  •  आदरणीय घीसादास साहब जी
  •  आदरणीय संत मलूक दास जी
  •  आदरणीय स्वामी रामानन्द जी

kabir Saheb in Hindi: पूर्ण परमात्मा कबीर साहेब के चमत्कार

परमेश्वर कबीर स्वयं आकर अपना वास्तविक आध्यात्मिक ज्ञान अर्थात् तत्वज्ञान बताते हैं। कबीर साहेब कवियों, छंदों, दोहों आदि के माध्यम से अपने आध्यात्मिक ज्ञान की शिक्षा देते हैं लेकिन अज्ञानी आत्माएं नहीं समझतीं हैं। कबीर सागर में वर्णित है कि उन्होंने हजारों लोगों के सामने चमत्कार किए। परमेश्वर कबीर जी ने मुस्लिम शासक सिकंदर लोधी के जलन के रोग को ठीक किया था। शासक सिकंधर लोधी के धार्मिक गुरु शेखतकी को भगवान कबीर से ईर्ष्या होती थी क्योंकि शासक उनकी शक्तियों और ज्ञान के कारण उनकी महिमा बताया करते थे। कई बार शेखतकी ने कबीर जी को कई तरह से नीचा दिखाने की कोशिश की लेकिन सब व्यर्थ रहा।  परमेश्वर कबीर जी ने दो बार मृतकों को जीवित किया, जिनका नाम ‘कमाल और कमाली’ रखा । शेखतकी को छोड़कर सभी ने पहचान लिया था कि कबीर जी कोई साधारण व्यक्ति नहीं थे। वह कोई परम शक्ति है, लेकिन अहंकारी शेखतकी अपनी हरकतों से बाज नहीं आया।

Credit: SA News Channel

 एक बार शेखतकी ने ईर्ष्यावश यह अफवाह उड़ा दी कि कबीर साहब एक भव्य भोज (भंडारा) का आयोजन करने जा रहे हैं। तब एक निर्धन जुलाहा की भूमिका निभा रहे कबीर भगवान ने 18 लाख लोगों को भंडारे में भोजन करवाया और साथ मे 10 ग्राम सोने की मोहर और एक कंबल (दोहर) दान किया।  भगवान कबीर जी ने काशी में यह भंडारा किया था।  कबीर साहेब की दिव्य लीला का यह उदाहरण इतिहास में प्रमाण के रूप मेंं लिखा गया है।

kabir Saheb in Hindi: भगवान कबीर की मृत्यु – एक रहस्य

अक्सर यह पूछा जाता है कि कबीर जी की मृत्यु कब और कैसे हुई?  वास्तव में, कबीर साहब की मृत्यु नहीं हुई थी। जैसा कि वेदों में उल्लेखनीय है, पूर्ण परमात्मा कभी जन्म नहीं लेते ना ही मरते  हैं।  जैसा कि पहले से निश्चित था, जब भगवान के अपने दिव्य निवास(सतलोक) में जाने का समय आया, कबीर साहेब इस मिथक को दूर करने के लिए काशी से मगहर आए कि एक सच्चा भक्त कहीं भी मर सकता है वह परमात्मा को प्राप्त करेगा। स्थान कोई मायने नहीं रखता बल्कि मोक्ष प्राप्त करने के लिए भगवान के प्रति समर्पण का अत्यधिक महत्व है।

Credit: Satlok Ashram

 जब कबीर जी अपने निज स्थान सतलोक जाने वाले थे, तब उनके सभी शिष्य एकत्र हो गये जो हिंदू और मुस्लिम दोनों धर्मों से थे। मुस्लिम शासक बिजली खान पठान और हिंदू राजा वीर सिंह बघेल भी उनमें से थे, जो भगवान कबीर जी के शरीर को प्राप्त करने के लिए युद्ध के लिए तैयार थे। वे अपने धार्मिक तरीके से अपने गुरुदेव का अंतिम संस्कार करना चाहते थे। भगवान कबीर जी ने उन्हें सख्ती से कहा कि वे उनके शरीर के लिए न लड़ें, बल्कि शांति से रहें।  फिर जमीन पर एक चादर बिछाई गई, जिस पर कबीर साहेब ने खुद को दूसरी चादर से ढक लिया।कुछ समय बाद कबीर परमेश्वर ने एक आकाशवाणी करके कहा कि वो सतलोक जा रहे है जहां से वे सशरीर में आये थे। चादर के नीचे कबीर जी का शरीर नहीं मिला, बल्कि सुगंधित फूल मिले।  कबीर साहेब ने हिंदुओं और मुसलमानों को आदेश दिया कि वे आपस में न लड़ें और सद्भाव से रहें।  हिंदूओं और मुस्लिमों ने  आपस में फूल बांटे और एक स्मारक बनाया जो आज भी मगहर में मौजूद है, जहाँ भक्त पूजा करते हैं।

इस प्रकार कबीर परमेश्वर ने युद्ध की स्थिति को टाला और मगहर से सशरीर  ‘सतलोक’ की ओर प्रस्थान किया। सतगुरु गरीबदास जी महाराज अपनी वाणी में पूर्ण संत की पहचान बताते है। वह चारों वेदों, छः शास्त्रों, अठारह पुराणों आदि सभी ग्रंथों का पूर्ण जानकार होगा अर्थात् उनका सार निकाल कर बताएगा।

यजुर्वेद में प्रमाण

  • यजुर्वेद अध्याय 19 मंत्रा 25 ए 26 में

लिखा है कि वेदों के अधूरे वाक्यों अर्थात् सांकेतिक शब्दों व एक चौथाई श्लोकों को पुरा करके विस्तार से बताएगा व तीन समय की पूजा बताएगा। सुबह पूर्ण

परमात्मा की पूजा, दोपहर को विश्व के देवताओं का सत्कार व संध्या आरती अलग से बताएगा वह जगत का उपकारक संत होता है।

  • यजुर्वेद अध्याय 19 मन्त्रा 25

सन्धिछेदः- अर्द्ध ऋचैः उक्थानाम् रूपम् पदैः आप्नोति निविदः।

प्रणवैः शस्त्राणाम् रूपम् पयसा सोमः आप्यते।(25)

अनुवादः– जो सन्त (अर्द्ध ऋचैः) वेदों के अर्द्ध वाक्यों अर्थात् सांकेतिक शब्दों को पूर्ण करके (निविदः) आपूर्त्ति करता है (पदैः) श्लोक के चौथे भागों को अर्थात् आंशिक वाक्यों को (उक्थानम्) स्तोत्रों के (रूपम्) रूप में (आप्नोति) प्राप्त करता है अर्थात्

आंशिक विवरण को पूर्ण रूप से समझता और समझाता है (शस्त्राणाम्) जैसे शस्त्रों को चलाना जानने वाला उन्हें (रूपम्) पूर्ण रूप से प्रयोग करता है एैसे पूर्ण सन्त (प्रणवैः) औंकारों अर्थात् ओम्-तत्-सत् मन्त्रों को पूर्ण रूप से समझ व समझा कर (पयसा)

दूध-पानी छानता है अर्थात् पानी रहित दूध जैसा तत्व ज्ञान प्रदान करता है जिससे (सोमः) अमर पुरूष अर्थात् अविनाशी परमात्मा को (आप्यते) प्राप्त करता है। वह पूर्ण सन्त वेद को जानने वाला कहा जाता है।

भावार्थः– तत्वदर्शी सन्त वह होता है जो वेदों के सांकेतिक शब्दों को पूर्ण विस्तार से वर्णन करता है जिससे पूर्ण परमात्मा की प्राप्ति होती है वह वेद का जानने वाला कहा जाता है।

  • यजुर्वेद अध्याय 19 मन्त्रा 30

सन्धिछेदः- व्रतेन दीक्षाम् आप्नोति दीक्षया आप्नोति दक्षिणाम्।

दक्षिणा श्रद्धाम् आप्नोति श्रद्धया सत्यम् आप्यते (30)

अनुवादः– (व्रतेन) दुर्व्यसनों का व्रत रखने से अर्थात् भांग, शराब, मांस तथा तम्बाखु आदि के सेवन से संयम रखने वाला साधक (दीक्षाम्) पूर्ण सन्त से दीक्षा को (आप्नोति) प्राप्त होता है अर्थात् वह पूर्ण सन्त का शिष्य बनता है (दीक्षया) पूर्ण सन्त दीक्षित शिष्य से (दक्षिणाम्) दान को (आप्नोति) प्राप्त होता है अर्थात् सन्त उसी से दक्षिणा लेता है जो उस से नाम ले लेता है। इसी प्रकार विधिवत् (दक्षिणा) गुरूदेव द्वारा बताए अनुसार जो दान-दक्षिणा से धर्म करता है उस से (श्रद्धाम्) श्रद्धा को (आप्नोति) प्राप्त होता है (श्रद्धया) श्रद्धा से भक्ति करने से (सत्यम्) सदा रहने वाले सुख व परमात्मा अर्थात् अविनाशी परमात्मा को (आप्यते) प्राप्त होता है।

भावार्थ :- पूर्ण सन्त उसी व्यक्ति को शिष्य बनाता है जो सदाचारी रहे। अभक्ष्यपदार्थों का सेवन व नशीली वस्तुओं का सेवन न करने का आश्वासन देता है। पूर्ण सन्त उसी से दान ग्रहण करता है जो उसका शिष्य बन जाता है फिर गुरू देव से दीक्षा प्राप्त करके फिर दान दक्षिणा करता है उस से श्रद्धा बढ़ती है। श्रद्धा से सत्य भक्ति करने से अविनाशी परमात्मा की प्राप्ति होती है अर्थात् पूर्ण मोक्ष होता है। पूर्ण संत भिक्षा व चंदा मांगता नहीं फिरेगा।

कलयुग में परमेश्वर कबीर साहेब का अवतार

kabir Saheb in Hindi: जैसा कि वेदों में वर्णित है, पूर्ण परमात्मा कबीर हर युग में अलग-अलग नामों से आते  हैं जैसे कि वे सतयुग में सत सुकृत नाम से  स्वयं प्रकट हुए, त्रेता युग में मुनिंद्र ऋषि के रूप में, द्वापरयुग में करुणामयी के रूप में, और कलयुग में वे  600 वर्ष पूर्व अपने मूल नाम कबीर के साथ आए।  ऋग्वेद, सूक्त 96, मंत्र 17 में उल्लेख है कि पूर्ण परमात्मा अनेक दिव्य लीलाएँ करत हुए बड़े होते हैं और एक कवि का रूप धारण करके अपनी वाणियों/दोहो/ कविताओं /और छंदों के रूप में तत्वज्ञान (सच्चा आध्यात्मिक ज्ञान) प्रदान करते हैं।

 कबीर साहेब आज भी हमारे बीच उपस्थित हैं!- कबीर साहेब तत्वदर्शी (तत्वदर्शी) संत के रूप में उपस्थित हैं। आज वे जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज के अवतार के रूप में आए हुए हैं।   सभी से निवेदन है कि भगवान को पहचानें और उनकी शरण में जाकर अपना कल्याण करें।

निष्कर्ष

एक पूर्ण संत की पहचान के बारे में सभी शास्त्रों से मिले प्रमाणों व संतों की वाणियों से  संकेत मिलता है कि जगतगुरु तत्वदर्शी संत रामपाल जी महाराज  ही एक तत्वदर्शी संत हैं। क्योंकि वो शास्त्रों के अनुकूल भक्ति साधना बता रहे हैं।  उनसे नाम दीक्षा लेकर अपने जीवन का कल्याण कराएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *