Rishi Sunak News [Hindi] : ऋषि सुनक का दूसरा राउंड भी फतह, पर कुर्सी अभी बहुत दूर,जानिए कैसे होगा चुनाव

Rishi Sunak News [Hindi] क्या ऋषि सुनक बन सकते हैं Britain के PM

Rishi Sunak News [Hindi]: ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बनने की रेस में भारतीय मूल के ऋषि सुनक (Rishi Sunak) दो चरण की वोटिंग के बाद सबसे आगे रहे हैं. यूके में कंजरवेटिव पार्टी (Conservative Party) के पास बहुमत है. पार्टी के अंदर ही प्रधानमंत्री चुनने की प्रक्रिया चल रही है. इसके तहत नॉमिनेशन, एलिमिनेशन और फाइनल सेलेक्शन के राउंड होते हैं. इस समय एलिमिनेशन राउंड चल रहा है. इसी प्रक्रिया के तहत कंजरवेटिव पार्टी के अंतिम पांच उम्मीदवारों ने पहली टीवी डिबेट (TV Debate) में हिस्सा लिया. जिसमें उन्होंने ब्रिटेन (Britain) में कर और उससे संबंधित योजनाओं पर अपने विचार शेयर किए.

ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनने की रेस में भारतीय मूल के ऋषि सुनक दो चरण की वोटिंग के बाद सबसे आगे रहे, जबकि व्यापार नीति मंत्री पेनी मोर्डोंट दूसरे स्थान पर रहीं हैं। वहीं, महिला मंत्री मोर्डोंट को कंजर्वेटिव पार्टी के सदस्यों के बीच कराए गए एक सर्वे में सबसे आगे बताया गया है। उन्हें ऋषि के पीएम बनने की राह में सबसे बड़ी चुनौती माना जा रहा है।

Rishi Sunak News [Hindi] | पार्टी के भीतर तीन राउंड के बाद पीएम का चुनाव

यूके में कंजरवेटिव पार्टी के पास बहुमत है। पार्टी के अंदर ही प्रधानमंत्री चुनने की प्रक्रिया चल रही है। इसके तहत नॉमिनेशन, एलिमिनेशन और फाइनल सेलेक्शन के राउंड होते हैं। इस समय एलिमिनेशन राउंड चल रहा है। यह राउंड अंतिम दो उम्मीदवार रहने तक चलेगा। उसके बाद फाइनल सेलेक्शन राउंड होगा। उसमें पार्टी के सांसद और अन्य सदस्य वोटिंग करते हैं। उसमें जीतने वाला उम्मीदवार प्रधानमंत्री पद के लिए चुना जाएगा। एलिमिनेशन राउंड और सेलेक्शन राउंड का यही अंतर ऋषि सुनक की दावेदारी पर असर डाल सकता है। इसलिए सर्वेक्षण के परिणाम काफी मायने रखते हैं।

ब्रिटेन में हुआ जन्म

Rishi Sunak News [Hindi] | ऋषि सुनक का जन्म 12 मई 1980 को ब्रिटेन के साउथम्पैटन में हुआ था. उनके माता-पिता दोनों भारतीय मूल के थे. पिता डॉक्टर थे. ऋषि तीन भाई- बहनों में सबसे बड़े हैं. उन्होंने विंस्चेस्टर कॉलेज से राजनीति विज्ञान की पढ़ाई की.

पेनी मोर्डोंट का राजनीतिक सफर

करीब 49 वर्षीय मोर्डोंट साल 2010 से पोर्ट्समाउथ नॉर्थ से सांसद हैं। वह डेविड केमरून के नेतृत्व वाली सरकार में 2014-15 के दौरान उपमंत्री रहीं। 2015 के चुनाव के बाद उन्हें सशस्त्र बलों से संबंधित मंत्रालय का प्रभार सौंपा गया। इसके बाद वह थेरेसा मंत्रिमंडल में स्वास्थ्य, अंतरराष्ट्रीय विकास और रक्षा मंत्रालय भी संभाल चुकी हैं।

Also Read | Secularism in India [Hindi] |भारत देश की धर्म निरपेक्षता

तब भारतीय मूल की प्रीति पटेल के इस्तीफे के बाद उन्हें अंतरराष्ट्रीय विकास मंत्रालय सौंपा गया था। बोरिस जॉनसन मंत्रिमंडल में वह सितंबर 2021 में व्यापार नीति मंत्री बनाई गईं। मोर्डोंट ने पार्टी में संगठन स्तर पर जॉन मेजर और विलियम हेग के साथ भी काम किया है। इसके अलावा साल 2000 और 2004 में जॉर्ज डब्ल्यू बुश के अमेरिका के राष्ट्रपति पद पर चुनाव अभियान का भी हिस्सा रहीं।

Rishi Sunak News [Hindi] | महारानी से अधिक अमीर

उस लिस्ट के मुताबिक, यह दंपती 73 करोड़ पाउंड की संयुक्त संपत्ति के साथ इस सूची में 222वें पायदान था. इस सूची में अनुमानित 28.472 अरब पाउंड की संपत्ति के साथ शीर्ष पर भारतीय मूल के हिंदुजा बंधु थे. द टाइम की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस दंपत्ति की अपनी निजी संपत्ति लगभग 430 मिलियन पाउंड आंकी गई है, जो उन्हें महारानी से अधिक अमीर बनाती है. महारानी की संपत्ति 350 मिलियन पाउंड है.

  • ऋषि सुनक पहले नंबर पर बने हुए हैं. वे भारत के विख्यात उद्योगपति और इंफ़ोसिस कंपनी के संस्थापक एनआर नारायण मूर्ति के दामाद हैं. उन्होंने अक्षता मूर्ति से साल 2009 शादी की थी.
  • ऋषि सुनक, बोरिस जॉनसन कैबिनेट में वित्त मंत्री थे. उन्होंने प्रधानमंत्री बनने के बाद देश की अर्थव्यवस्था को मज़बूत करने का वादा किया है.
  • 2015 से सुनक यॉर्कशर के रिचमंड से कंज़र्वेटिव सांसद चुने गए थे. वो नॉर्दलर्टन शहर के बाहर कर्बी सिग्स्टन में रहते हैं. उनके पिता एक डॉक्टर थे और माँ फ़ार्मासिस्ट थीं. भारतीय मूल के उनके परिजन पूर्वी अफ़्रीका से ब्रिटेन आए थे.
  • 1980 में सुनक का जन्म हैंपशर के साउथहैम्टन में हुआ था और उनकी पढ़ाई ख़ास प्राइवेट स्कूल विंचेस्टर कॉलेज में हुई. इसके बाद वो ऑक्सफ़ोर्ड पढ़ाई के लिए गए, जहाँ उन्होंने दर्शन, राजनीति और अर्थशास्त्र की पढ़ाई की. ब्रिटेन के महत्वाकांक्षी राजनेताओं के लिए ये सबसे आज़माया हुआ और विश्वसनीय रास्ता है.
  • उन्होंने स्टैनफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में एमबीए की पढ़ाई भी की. राजनीति में दाख़िल होने से पहले उन्होंने इन्वेस्टमेंट बैंक गोल्डमैन सैक्स में काम किया और एक निवेश फ़र्म को भी स्थापित किया. ऋषि और अक्षता की दो बेटियां हैं.
  • सुनक ने यूरोपियन यूनियन को लेकर हुए जनमत संग्रह में इसे छोड़ने के पक्ष में प्रचार किया और उनके संसदीय क्षेत्र में यूरोपियन यूनियन छोड़ने के पक्ष में 55 फ़ीसदी लोगों ने मतदान किया था.

पेनी मोर्डेंट दूसरे नंबर पर

पेनी मोर्डेंट
इमेज कैप्शन,पेनी मोर्डेंट, मिनिस्टर ऑफ स्टेट

पेनी मोर्डेंट दूसरे नंबर पर हैं. उन्होंने प्रधानमंत्री बनने पर ईंधन पर वैट कटौती और बढ़ती महंगाई के हिसाब से मध्यम आय वाले लोगों की आयकर सीमा बढ़ाने का वादा किया है.

उन्होंने साल 2019 में ब्रिटेन की पहली महिला रक्षा मंत्री का इतिहास रचा था. डेविड कैमरन सरकार में उनके पास आर्म्ड फोर्सेस मंत्री का ज़िम्मा था. पेनी मोर्डेंट का समर्थन करने वालों में एंड्रिया लेडसम और डेविड डेविस शामिल हैं. कंजर्वेटिव पार्टी की यूथ विंग की प्रमुख बनने वाली पेनी मोर्डेंट 2010 में पोर्ट्समाउथ नॉर्थ के लिए सांसद बनी थीं.

Rishi Sunak News [Hindi] | कैसे चुना जाता है ब्रिटेन का प्रधानमंत्री

उम्मीदवार को प्रधानमंत्री की रेस में क़दम रखने के लिए कम से कम 20 सांसदों के समर्थन की ज़रूरत थी जो पिछले मुक़ाबले की तुलना में अधिक है. नामांकन के बाद पहले मतदान की वोटिंग होती है, जिसमें 30 से कम वोट मिलने वाला उम्मीदवार रेस से बाहर हो जाता है.

Also Read | Japan’s former Prime Minister Shinzo Abe Assassinated in broad daylight

पहले वोटिंग में जीतने वाले उम्मीदवार दूसरी वोटिंग में हिस्सा लेते हैं. इसमें जिस उम्मीदवार को सबसे कम वोट मिलते हैं वो बाहर हो जाता है. इसके बाद कई दौर का मतदान होता है.

ऋषि पर महीनों से योजना बनाने का लगा है आरोप

Rishi Sunak News [Hindi]| अखबार ने सूत्रों के हवाले से दावा किया, पीएम आवास में तमाम लोग ऋषि से व्यक्तिगत दुश्मनी पर उतर आए हैं। वह इस्तीफा देने के लिए साजिद वाजिद को कसूरवार नहीं ठहराते। उनका कहना है, ऋषि ने इस्तीफा देने से पहले महीनों तक योजना बनाई और तैयारी भी की।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बोरिस जॉनसन ने टोरी नेतृत्व के उम्मीदवारों को पूर्व ब्रिटिश वित्तंमंत्री सुनक का समर्थन नहीं करने का आग्रह किया है। जॉनसन ने कहा है कि वह किसी भी नेतृत्व के उम्मीदवारों का समर्थन नहीं करेंगे और सार्वजनिक रूप से चुनाव में हस्तक्षेप नहीं करेंगे।

नए प्रधानमंत्री के नाम की घोषणा 5 सितंबर को होगी

बोरिस जॉनसन का स्थान लेने वाले ब्रिटेन में सत्तारूढ़ कंजर्वेटिव पार्टी के नए नेता एवं नए प्रधानमंत्री के नाम की घोषणा पांच सितंबर को की जाएगी। टोरी के नाम से जानी जाने वाली पार्टी के नेतृत्व के चुनाव के लिए जिम्मेदार निकाय ने सोमवार को यह जानकारी दी। नया पीएम निवर्तमान बोरिस जॉनसन की जगह लेगा।  1922 कमेटी ऑफ कंजर्वेटिव बैकबेंच के सांसदों ने चुनाव के लिए समय सारिणी और नियम निर्धारित किए। प्रधानमंत्री पद के लिए अब तक 11 लोग दावेदारी पेश कर चुके हैं। समिति के अध्यक्ष सर ग्राहम ब्रैडी ने कहा, निश्चित ही पांच सितंबर को हमारे पास पार्टी का नया नेता होगा।

इस वक्त सुनक और पेन्नी मॉर्डान्ट पीएम पद की रेस में सबसे आगे चल रहे हैं। टोरी बैकबेंचर्स की 1922 समिति द्वारा निर्धारित समय सारिणी के मुताबिक, 21 जुलाई तक इस रेस में सिर्फ दो उम्मीदवार रह जाएंगे। इसके बाद उम्मीदवारों को 2 लाख कंजरवेटिव पार्टी सदस्यों के सामने अपनी उम्मीदवारी साबित करनी होगी। जिस उम्मीदवार को सबसे ज्यादा वोट मिलेंगे वह ब्रिटेन का प्रधानमंत्री बनेगा। 5 सितंबर को ब्रिटेन को नया प्रधानमंत्री मिल जाएगा।

ऋषि सुनक का राजनीतिक सफर

करीब 42 साल के ऋषि सुनक 2015 से रिचमंड (यॉर्क्स) से सांसद हैं। 2015 से 2017 तक उन्होंने पर्यावरण, खाद्य और ग्रामीण मामलों की चयन समिति के सदस्य के रूप में कार्य किया। वह जनवरी 2018 से जुलाई 2019 तक संसदीय अवर सचिव रहे। जुलाई 2019 में बोरिस जॉनसन सरकार में उन्हें ट्रेजरी का मुख्य सचिव नियुक्त किया गया था। वह 25 जुलाई 2019 को प्रिवी काउंसिल के सदस्य बने। फरवरी 2020 में कैबिनेट में फेरबदल के तहत उनको राजकोष के चांसलर के रूप में पदोन्नत किया गया था। कोरोना महामारी के बीच सुनक ने अपना पहला बजट मार्च 2020 में पेश किया था। हाल में बोरिस जॉनसन के प्रधानमंत्री बने रहने के खिलाफ इस्तीफा देने वाले वह पहले मंत्री थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

3 × 4 =