Satya Nadella Son Died: सत्या नडेला के बेटे का 26 साल की उम्र में निधन, इस बीमारी से थे ग्रसित

Satya Nadella Son Died [Hindi] सत्या नडेला के बेटे का 26 साल की उम्र में निधन

Satya Nadella Son Died News: सॉफ्टवेयर कंपनी  माइक्रोसॉफ्ट कॉर्प के सीईओ सत्या नडेला के बेटे ज़ेन नडेला का सोमवार सुबह निधन हो गया. वह 26 साल के थे और उन्हें जन्म से ही सेरेब्रल पाल्सी बीमारी थी.  कंपनी ने कर्मचारियों को ईमेल के जरिए इस दुखद घटना की सूचना दी है. सॉफ्टवेयर कंपनी ने एक ईमेल के जरिए अपने एग्जीक्यूटिव स्टाफ को बताया कि ज़ेन का निधन हो गया है. इस संदेश में एग्जीक्यूटिव्स से उनके परिवार के लिए प्रार्थना करने के लिए कहा गया है. जेन को संगीत का शौक था. 

क्या है सेरेब्रल पाल्सी (What is Cerebral Palsy)

सेरेब्रल पाल्सी न्यूरोलॉजिकल विकारों के समूह को संदर्भित करता है। यह स्थायी रूप से शारीरिक गतिविधियों, जैसे चलना या हिलना-डुलना और मांसपेशी को प्रभावित करता है। दिमाग के किसी हिस्से के असामान्य विकास या कुछ हिस्सों की क्षति से सेरेब्रल पाल्सी होता है। यह क्षति गर्भावस्था में या जन्म के दौरान या जन्म के तुरंत बाद हो सकती है।

Satya Nadella Son Died News: कंपनी ने दी जानकारी

कंपनी ने कर्मचारियों को ईमेल के जरिए इसकी सूचना दी है। सॉफ्टवेयर कंपनी ने एक ईमेल के जरिए अपने एग्जीक्यूटिव स्टाफ को बताया कि ज़ैन का निधन हो गया है। इस संदेश में एग्जीक्यूटिव्स से उनके परिवार के लिए प्रार्थना करने के लिए कहा गया है। बता दें कि 2014 में सीईओ की भूमिका निभाने के बाद से, सत्या नडेला डिसएबिलिटी से पीड़ित यूजर्स को बेहतर सेवा देने के लिए डिजाइनिंग प्रोडक्ट्स पर जोर दे रहे थे।

हल्के और गंभीर दोनों तरह के दिखते हैं लक्षण

सेरेब्रल पाल्सी के लक्षण अलग-अलग मरीजों में अलग अलग होते हैं। किसी मरीज में इस बीमारी के कम लक्षण दिखते हैं तो किसी में गंभीर लक्षण भी देखने को मिलते हैं। गंभीर लक्षणों वाला इनसान चलने फिरने के लिए खास उपकरणों का इस्तेमाल करता है। ऐसा मरीज बिल्कुल भी खुद चलने फिरने में सक्षम नहीं होता उसे हमेशा ही केयर टेकर की जरूरत होती है।

■ Also Read: Parag Agarwal: IIT Bombay से पढ़ाई करने वाले पराग कैसे बने ट्विटर के CEO, जानिए उनके जीवन से जुड़े रोचक तथ्य

Satya Nadella Son Died News: सेरेब्रल पाल्सी के लक्षण

सेरेब्रल पाल्सी के लक्षण अलग-अलग बच्चों या व्यक्ति में अलग-अलग नजर आ सकते हैं। कुछ मामलों में ये सिर्फ एक या दो अंगों को ही प्रभावित करते हैं तो कुछ मामलों में पूरे शरीर को। आमतौर जो समस्या इसके चलते सबसे ज्यादा देखने को मिलती है वो है चलने, बोलने, खाने में दिक्कतों के साथ शारीरिक और बौद्धिक विकास में समस्याएं। 

हॉस्पिटल में बीता ज्यादातर वक्त

जेन का ज्यादातर अमेरिका के सिएटल स्थित चिल्ड्रंस हॉस्पिटल में बीता. यहां पिछले साल सत्या नडेला ने जेन नडेला न्यूरो साइंसेस सेंटर की स्थापना की. इस सेंटर में मस्तिष्क रोगों को लेकर एकीकृत शोध किया जाता है. 2014 से माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ नडेला ने डिसएबिलिटी से पीड़ित यूजर्स को बेहतर सेवा देने के लिए डिजाइनिंग प्रोडक्ट्स पर जोर दिया और कहा कि उन्होंने बेटे जैन के पालन पोषण और सहयोग देते हुए काफी कुछ सीखा है.

■ Also Read: Lata Mangeshkar Death News: सुर कोकिला लता मंगेशकर का निधन, 92 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

जन्म के समय रोया नहीं था जैन

अक्टूबर 2017 में सत्या ने एक ब्लॉगपोस्ट में अपने बेटे के जन्म के बारे में बात की थी। उन्होंने बताया था कि, ‘अपनी गर्भावस्था के 36वें हफ्ते में अनु ने देखा कि बच्चा उतना हिल नहीं रहा था जितना वह आदी था। इसलिए हम एक स्थानीय अस्पताल के इमरजेंसी रूम में गए थे। डॉक्टर इमरजेंसी सिजेरियन सेक्शन का आदेश देने के लिए चिंतित थे।’ सीईओ ने बताया कि जैन का जन्म 13 अगस्त 1996 को रात 11:29 बजे हुआ था। वह जन्म के समय रोया नहीं था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

twenty − nineteen =